CBSE, ICSE, NEET, JEE परीक्षाएं टलेंगी या कैंसिल होंगी?……आज सुप्रीम कोर्ट में होगा फैसला…. यूनिवर्सिटी-कॉलेज की भी परीक्षाएं हो सकती है प्रभावित

नयी दिल्ली 25 जून 2020। कोरोना वायरस महामारी के चलते विश्वविद्यालयों और उच्च शिक्षा संस्थानों के लास्ट ईयर की वे परीक्षाएं भी कैसिल हो सकती हैं जो जुलाई माह में होने वाली थी. जबकि नया सत्र अक्टूबर माह से शुरू होने की उम्मीद की जा रही है. यदि आज सुप्रीम कोर्ट के फैसले में सीबीएसई की पेंडिंग परीक्षाओं को तय तारीख पर करवाने का फैसला आता है तो स्टूडेंट्स को परीक्षा केंद्र पर एडमिट कार्ड के साथ परमिशन लेटर भी ले जाना होगा. दोनों के न होने पर परीक्षा केंद्र में एंट्री नहीं मिलेगी। अगर सीबीएसई की पेंडिंग परीक्षाएं स्थगित की जाती हैं या रद्द की जाती है तो इसका असर मेडिकल कोर्सेस में दाखिले के लिए होने वाली परीक्षा NEET और इंजीनियरिंग कोर्सेस के लिए एडमिशन टेस्ट JEE मेंस की तारीखों पर भी इसका असर पड़ेगा. जेईई मेंस एग्जाम 18 से 23 जुलाई के बीच और NEET नीट की परीक्षा 26 जुलाई को होनी है.

बोर्ड परीक्षार्थियों के माता-पिता द्वारा दायर याचिका में कहा गया है कि कोविड-19 का प्रसार तेजी से बढ़ता जा रहा है. ऐसे में एग्जाम लेना सुरक्षित नहीं है. हालांकि सीएबीएसई ने पिछले दिनों अपना पक्ष रखते हुए कहा था कि बोर्ड एग्जाम को रद्द नहीं किया जा सकता है. सीबीएसई इसके डेट बढ़ाने पर विचार कर रही है.सुनवाई के बाद माना जा रहा है कि नीट और जेईई के एग्जाम के बारे में भी फैसला किया जा सकता है. बता दें कि नीट एग्जाम मेडिकल एंट्रेंस तो, जेईई इंजिनयरिंग के लिए होता है. नीट का एग्जाम 26 जुलाई को निर्धारित है, वहीं जेईई का एग्जाम 18 जुलाई को होना है.

देश के 15000 हजार सेंटरों पर होना है एग्जाम– बता दें कि 1 जुलाई से देशभर में 15000 सेंटरों पर एग्जाम होना है. इससे पहले, केंद्र सरकार ने बताया कि सीबीएसई 15000 सेंटरों पर बोर्ड एग्जाम आयोजित करवाएगी. केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने ट्वीट कर कहा कि पहले 3000 सेंटर पर एग्जाम होते थे, अब इसे बढ़ाकर 15000 कर दिया गया है. सरकार ने यह फैसला सोशल डिस्टेंसिंग के मद्देनजर किया है.

29 विषयों की होनी है परीक्षा– इससे पहले केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने छात्रों के साथ बातचीत के बाद 29 अप्रैल को बताया था कि बोर्ड एग्जाम के 81 बचे विषयों में से सिर्फ 29 विषयों की परीक्षा ली जायेगी. अन्य विषयों में इंटर्नल के आधार पर पास कर दिया जायेगा. माना जा रहा है कि बोर्ड अब इन विषयों में भी इंटरनल के आधार पर मार्किंग कर परिणाम जारी करें.

 

 

Get real time updates directly on you device, subscribe now.