…जब SDOP ने खुद नहीं शहीद के भाई से करवाया ध्वाजारोहण…. स्वतंत्रता दिवस के मौके पर शहीद का मिले इस अनूठे सम्मान के बाद भाई बोला- ये दिन जिंदगी भर नहीं भूल पाऊंगा

धमतरी 16 अगस्त 2020।  इस स्वतंत्रता दिवस को शहीद धनराज का भाई जिंदगी भर नहीं भूल पायेगा। 15 अगस्त के मौके पर SDOP दफ्तर में शहीद धनराज के भाई हेमलाल ध्रुव ने ध्वजारोहण किया। ये पल मौजूद पुलिसकर्मियों के लिए तो हैरान करने वाला तो था ही कई पुलिसकर्मियों के लिए आंखें नम कर देने वाला भी था। दरअसल नगरी SDOP नीतीश ठाकुर को परंपरा के मुताबिक अपने दफ्तर में ध्वजारोहण करना था, लेकिन उन्होंने इस परंपरा को तोड़ते हुए शहीद धनराज ध्रुव के भाई हेमलाल ध्रुव को ध्वजारोहण के लिए आमंत्रित किया। इसे देखकर मौजूद पुलिसकर्मी भी चौक गये। वहीं हेमलाल ध्रुव के लिए ये दिन ना सिर्फ यादगार बन गया, बल्कि भाई को याद कर वो भावुक भी हो गया।

दरअसल आरक्षक हेमलाल ध्रुव के बड़े भाई धनराज ध्रुव का चयन वर्ष 2005 में जगदलपुर में पुलिस विभाग में हुआ था. जिसके बाद उसकी पोस्टिंग मार्दापाल थाने में हो गई. जहाँ तैनात रहते हुए वह पूरे जज्बे के साथ अपनी ड्यूटी निभा रहे थे. इसी बीच 28 अप्रैल 2007 को मार्दापाल थाना इलाके के कुदुर पहाड़ी जंगल में सर्चिंग के दौरान नक्सलियों के साथ हुए मुठभेड़ में वे शहीद हो गये. उनकी शहादत के बाद भाई हेमलाल ध्रुव को पुलिस विभाग में अनुकम्पा नियुक्ति मिल गयी. जो कि वर्तमान में नगरी थाना में आरक्षक वाहन चालक के रूप में पदस्थ है.

नगरी एसडीओपी नीतिश ठाकुर ने 15 अगस्त के 74वीं वर्षगाँठ पर पुलिस अनुविभागीय कार्यालय नगरी में उसके हाथों ध्वजारोहण करवाया.इस मौके पर नगरी टीआई एन एस ठाकुर समेत पूरा स्टाफ मौजूद था. शहीद धनराज ध्रुव के भाई ने कहा कि आज का दिन उसके लिए अविस्मरणीय हो गया. शहीद भाई के सम्मान में ध्वजारोहण करने का मौका मिला. गर्व है कि उनके बड़े भाई देश की सेवा करते शहीद हो गए. राष्ट्रीय पर्व पर शहीद भाई के सम्मान में ध्वजारोहण करने का अवसर देने के लिए उसने एसडीओपी और टीआई सहित पूरे स्टाफ का आभार व्यक्त किया.

Spread the love

Get real time updates directly on you device, subscribe now.