…जब कलेक्टर भीम सिंह व एसपी संतोष सिंह खुद पहुंचे बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में….. राहत शिविरों का किया निरीक्षण, अधिकारियों को दिये निर्देश….

रायगढ़ 29 अगस्त 2020। दो दिनों की लगातार बारिश ने छत्तीसगढ़ में बाढ़ के हालात बना दिये हैं। प्रदेश के कई हिस्सों में नदियां उफान पर है और लोगों को बेघर होना पड़ा है। जांजगीर-चांपा, रायगढ़, राजनांदगांव एवं बलौदाबाजार के कई हिस्सों में बाढ़ के हालात हैं। लिहाजा खुद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने शुक्रवार की देर रात तक बाढ़ के हालातों की समीक्षा की और प्रभावितों को तत्काल राहत पहुंचाने का निर्देश दिया।आज बाढ़ के हालात और रेस्क्यू आपरेशन का जायजा लेने खुद कलेक्टर भीम सिंह और एसपी संतोष सिंह निकल पड़े।

कलेक्टर भीम सिंह, एसपी संतोष सिंह के साथ-साथ एडिश्नल एसपी अभिषेक वर्मा आज बाढ़ प्रभावित क्षेत्र पहुंचे और वहां राहत शिविरों का निरीक्षण किया। इससे पहले अधिकारियों ने पुसौर तहसील के बाढ़ प्रभावित गांवों का दौरा किया और बाढ़ से प्रभावित लोगों को प्रशासन की और से बनाए गए राहत कैंपों में पहुंचाने के निर्देश दिए।  उन्होंने छिछोर उमरिया स्थित राहत कैंप का भी निरीक्षण किया और एसडीएम तथा तहसीलदार को वहां भोजन तथा अन्य आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराने के निर्देश दिए।

आपको बता दें कि रायगढ़ में सरिया, पुसौर व सारंगढ़ के कई दर्जन गांव बाढ़ प्रभावित  हैं और वहां से लोगों को निकालने का काम चल रहा है। पुलिस, प्रशासन व होमगार्ड्स की टीमें लोगों के राहत एवं बचाव में लगी है। वरिष्ठ अधिकारी लगातार क्षेत्र में दौरा कर राहत कार्य में लगे हैं। सैकड़ों की संख्या में लोगों को सुरक्षित स्थान पर लाया गया है। रायगढ़ एसपी संतोष सिंह के मुताबिक बताया कि बरमकेला इलाके के 18 और पुसौर क्षेत्र के 9 गांव बाढ़ से प्रभावित हुए हैं। जिले में 21 राहत कैम्प में 2389 लोगों को ठहराया गया है। बलौदाबाजार में अतिवृष्टि की 26 गांव बाढ़ से प्रभावित हुए है और यहां 24 कैम्पों में 1393 लोगों को ठहराया गया है।

Spread the love