….जब अजय चंद्राकर ने खड़े होकर कहा- हम सदन में आयेंगे जरूर, लेकिन कोई सवाल नहीं पूछेंगे…. फिर, संसदीय कार्यमंत्री रविंद्र चौबे ने बयान पर सब हो गये खुश

रायपुर 24 फरवरी 2021। मंगलवार को सदन में छत्तीसगढ़ में बढ़े अपराध को लेकर शुरू हुआ हंगामे का असर प्रश्नकाल के शुरुआती मिनटों में बना रहा। मंगलवार को स्थगन प्रस्ताव की ग्राह्यता पर चर्चा के दौरान नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक को बोलने का मौका नहीं दिये जाने का विरोध जताते हुए प्रश्नकाल शुरू होते ही अजय चंद्राकर ने सदन में खड़े होकर कह दिया कि “ कल सदन में नेता प्रतिपक्ष को बोलने का मौका नहीं दिया गया” इसलिए इसे अपमान मानते हुए विपक्ष आज सदन में कोई सवाल नहीं पूछेगा।

अजय चंद्राकर ने कहा कि

“सदन में नेता प्रतिपक्ष और सदन के नेता का नाम पर कभी चर्चा के लिए लिखकर नहीं दिया जाता है, वो कभी भी बोल सकते हैं, लेकिन स्थगन की ग्राह्यता पर चर्चा के दौरान नेता प्रतिपक्ष को बोलने का मौका नहीं दिया गया, ये सदन का अपमान है, आज के पहले कभी ऐसा नहीं हुआ है, इसलिए हम आज सदन में मौजूद जरूर रहेंगे, लेकिन सवाल नहीं पूछेंगे”

विपक्ष के रूख के बाद संसदीय कार्यमंत्री रविंद्र चौबे ने कहा कि ..

“ये मानवीय त्रुटि की वजह से हुआ है, नेता प्रतिपक्ष का सम्मान हमेशा से रहा है, नेता प्रतिपक्ष पूर्व में आसंदी पर भी रह चुके हैं, इसलिए उनका सम्मान और भी बढ़ जाता है, इसलिए कुछ त्रुटिवश ऐसा हो गया है, कल जो हुआ, वो परंपरा का हिस्सा नहीं होगा, इसलिए विपक्ष से आग्रह है कि वो सवाल पूछे, आगे ऐसी परंपरा नहीं होगी”

संसदीय कार्यमंत्री का आश्वासन के बाद अजय चंद्राकर ने कहा कि अगर संसदीय कार्यमंत्री आश्वासन देते हैं तो फिर विपक्ष सदन में हिस्सा लेगा। जिसके बाद प्रश्नकाल शुरू हो पाया।

Spread the love