स्कूल खोलने को लेकर क्या है राज्यों के इरादे ?: छत्तीसगढ़ सरकार फिलहाज वेट एंड वाच की स्थिति में… देखिये अन्य राज्यों में स्कूलों को लेकर क्या लिया गया है फैसला… 21 सितंबर से खोला जाना है स्कूल

नई दिल्ली 12 सितंबर 2020। 21 सितंबर से स्कल को खोलने की इजाजत तो केंद्र सरकार ने दे दी है, लेकिन कई राज्य अभी भी इसे बंद रखने के ही पक्ष में है। हालांकि कई राज्य केंद्र की नीतियों के साथ हैं और वो राज्य में अपने स्तर से इसकी तैयारी में जुट गये हैं। हालांकि स्कूल खुलने के बाद भी कितन बच्चों को अभिभावक स्कूल भेजने की इजाजत देंगे, ये एक बड़ा सवाल बन गया है। छत्तीसगढ़ सरकार अभी इस मामले में वेट एंड वाच की स्थिति में है, तो वहीं . झारखंड, हरियाणा समेत कई राज्य सरकारें चरणबद्ध तरीके से स्कूल खोलने की तैयारी जुट गई हैं।

छत्तीसगढ़ 

छत्तीसगढ़ सरकार ने केंद्र की गाइडलाइन के दूसरे दिन ही स्पष्ट कर दिया था कि इसका फैसला उच्च स्तर पर लिया जायेगा। अभी सरकार केंद्र की गाइडलाइन और प्रदेश में कोरोना के हालत की समीक्षा कर रही है। हालांकि अंदरखाने संकेत यही है कि प्रदेश में अभी स्कूल बंद हो रहेंगे। दरअसल छत्तीसगढ़ में कोरोना पॉजेटिव का आंकड़ा 60 हजार के करीब पहुंच गया है, तो वहीं एक्टिव केस अभी 35 हजार के करीब है। लिहाजा राज्य सरकार पहले कोरोना की समीक्षा करेंगी और उसके बाद स्कूल को लेकर आखिरी निर्णयलिया जायेगा।

 

हरियाणा
हरियाणा सरकार ने 21 सितंबर से स्कूल खोलने की योजना बना ली है. हरियाणा के शिक्षा मंत्री कंवर पाल सिंह गुज्जर का कहना है कि प्रदेश एक बार फिर स्कूल खोलने को लेकर तैयार है. स्कूलों को सैनिटाइज करने के लिए बजट आवंटित किया जा चुका है. हालांकि राज्य सरकार ने करनाल और सोनीपत जिले में पहले सिर्फ क्लास 10 और 12 के छात्रों लिए स्कूल खोलने की बात कही है.

 

झारखंड
झारखंड सरकार भी महामारी के बीच स्कूल खोलने के पक्ष में है. गृह मंत्रालय की गाइडलाइंस को ध्यान में रखते हुए यहां पहले क्लास 10वीं और 12वीं की पढ़ाई शुरू होगी. झारखंड के शिक्षा मंत्री वैद्यनाथ महतो का कहना है कि बच्चों की पढ़ाई का नुकसान हो रहा है. उन्होंने बताया, ‘एक सर्वे से हमें पता चला है कि शहरी क्षेत्रों में ऑनलाइन क्लास का महज 27 फीसदी छात्र ही लाभ ले पा रहे हैं. ग्रामीण इलाकों में तो यह आंकड़ा और भी खराब है. कुछ बच्चों के पास मोबाइल कनेक्शन भी नहीं है.’

 

आंध्र प्रदेश
आंध्र प्रदेश में भी 21 सितंबर से स्कूल खुल रहे हैं. यहां 50 फीसदी टीचिंग और 50 फीसदी नॉन टीचिंग स्टाफ को स्कूल में बुलाया जा सकता है. क्लास 9 से 12 तक का कोई भी छात्र अपने पैरंट्स की लिखित अनुमति के बाद स्कूल जा सकता है और पढ़ाई कर सकता है.

 

उत्तर प्रदेश
उत्तर प्रदेश में केंद्र सरकार की गाइडलाइंस को ध्यान में रखकर स्कूल-कॉलेज  खोले जा सकते हैं. हालांकि यूपी के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने कहा कि प्रदेश में 15 सितंबर तक कोरोना की स्थिति पर नजर रखी जाएगी, इसके बाद ही निर्णय लिया जाएगा कि स्कूल खोले जाएंगे या नहीं.

 

फिलहाल अभी 10वीं, 12वीं के लिए दूरदर्शन यूपी और 9वीं, 11वीं क्लास के लिए स्वयंप्रभा चैनल के माध्यम से क्लासेज चल रही है. हर हफ्ते क्लास का टाइमटेबल तय किया जाता है. वहीं 8वीं तक के बच्चों के लिए व्हाट्सएप ग्रुप या अन्य किसी माध्यमों से क्लास चलाई जा रही हैं.

 

दिल्ली में बंद रहेंगे स्कूल
दिल्ली सरकार ने कोरोना महामारी के कारण 30 सितंबर तक सभी स्कूल बंद रखने का निर्णय लिया है. दिल्ली शिक्षा निदेशालय के अनुसार, सभी स्कूलों को 30 सितंबर तक बंद रखा जाएगा. कंटेंमेंट जोन के बाहर सरकारी स्कूलों में 9वीं से 12वीं क्लास तक के छात्रों को स्वैच्छिक आधार पर स्कूल जाने की अनुमति दी जा सकती है. हालांकि छात्रों के लिए ऑनलाइन क्लास और टीचिंग एक्टिविटी हमेशा की तरह जारी रहेंगी.

 

उत्तराखंड सरकार की गाइडलाइंस
कोरोना महामारी के मद्देनजर उत्तराखंड में स्कूल, कॉलेज 30 सितंबर तक बंद रहेंगे. राज्य सरकार ने पूरी तरह से स्कूल खोलने की अभी अनुमति नहीं दी है. दरअसल, उत्तराखंड में कुल 28 हजार से ज्यादा कोरोना संक्रमण के मामले आ चुके हैं. इनमें से करीब नौ हजार लोग अभी भी बीमारी से संक्रमित हैं, इनका ईलाज चल रहा है.

 

इन राज्यों के अलावा तमिलनाडु सरकार भी अभी स्कूल खोलने के पक्ष में नहीं है. छत्तीसगढ़ में स्कूल खोलने पर कोई विचार नहीं हुआ है, फिलहाल ऑनलाइन क्लास और यूनिक ऑफलाइन क्लासेज पर जोर देने कोशिश की जा रही है. बिहार में अभी इसपर चर्चा नहीं हुई है. हालांकि हिमाचल प्रदेश में केंद्र की गाइडलाइंस के आधार पर स्कूल खोले जा सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.