DEO के खिलाफ चुनाव के ठीक पहले बेहद गंभीर आरोप….बीजेपी ने केंद्रीय पर्यक्षेक को लिखित शिकायत की….कांग्रेस के पक्ष में शिक्षकों को चुनाव में काम कराने का बना रहे दवाब… पढ़िये क्या कुछ लिखा है शिकायत में

रायपुर 29 अक्टूबर 2020। मरवाही चुनाव के काउंटडाउन के बीच गौरेला पेंड्रा मरवाही के जिला शिक्षा अधिकारी मनोज राय गंभीर आरोपों में घिर गये हैं। आरोप है कि मनोज राय मरवाही चुनाव में कांग्रेस के एजेंट के रूप में काम कर रहे हैं। उन्होंने चुनाव ड्यूटी में लगे शिक्षकों को भी सख्त हिदायत दे रखी है कि कांग्रेस को सपोर्ट करना है। इस मामले में अब भाजपा ने डीईओ के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। आज इस मामले को लेकर बीजेपी के मरवाही चुनाव प्रभारी अमर अग्रवाल के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल ने केंद्रीय चुनाव पर्यवेक्षक से मुलाकात की और डीईओ की लिखित शिकायत की ।

आपको बता दें कि चुनाव आयोग ने 2007 बैच के बिहार कैडर के IAS अफसर जय सिंह को केंद्रीय पर्यवेक्षक बनाया है। आज मरवाही में पूर्व मंत्री अमर अग्रवाल, भूपेंद्र सवन्नी ने उनसे मुलाकात की और लिखित शिकायत की।

शिकायत में कहा गया है कि

“जिला शिक्षा अधिकारी मनोज राय स्थानीय मरवाही विधानसभा के ग्राम भर्रीडांड के मूल निवासी हैं तथा उनकी पूरी परिवारिक पृष्ठभूमि कांग्रेस की रही है, उनके द्वारा चुनाव आचार संहिता का स्पष्ट रूप से खुला उल्लंघन करते हुए कांग्रेस के पक्ष में प्रचार प्रसार किया जा रहा है तथा मातहत शिक्षकों को कांग्रेस के पक्ष में प्रचार प्रसार करने हेतु बोला जा रहा है, उनके द्वारा पोलिंग पार्टी का भी गठन किया गया है, जिसमें अपने विचारधारा वाले शिक्षकों को दूरस्त एवं वनक्षेत्र में किया जाकर फर्जी वोटिंग कराने की पूरी कोशिश की तैयारी की गयी है”

शिकायती पत्र में आगे और भी गंभीर शिकायतें लिखी गयी है। पत्र में कहा गया है कि ..

“चूंकि मनोज राय के द्वारा कांग्रेस के पक्ष में स्पष्ट रूप से प्रचार प्रसार किया जा रहा है। इस कारण उनके द्वारा गठित पोलिंग पार्टी के निष्पक्ष चुनाव की अपेक्षा नहीं की जा सकती है। इस कारण मनोज राय द्वारा गठित पोलिंग पार्टी को निरस्त करते हुए । पुन: नये पोलिंग पार्टी गठन किया जाये तथा जिला शिक्षा अधिकारी मनोज राय को इस जिले से हटाया जाये”

हालांकि इस मामले में चुनाव पर्यवेक्षक क्या एक्शन लेते हैं, इसका अभी इंतजार हैं। लेकिन इस पूरे प्रकरण में जिस तरह से भाजपा के तल्ख तेवर सामने आयेहैं, माना जा रहा है कि डीईओ के खिलाफ आयोग एक्शन ले सकता है।

Spread the love