बिजली विभाग के दो इंजीनियर सस्पेंड :… निर्वाध बिजली आपूर्ति में लापरवाही पर गिरी गाज… शिकायतों को सही पाये जाने पर चेयरमैन शैलेंद्र शुक्ला की बड़ी कार्रवाई… बिजली आपूर्ति को लेकर लगातार चल रही है मानिटरिंग

रायपुर 20 जनवरी 2020 ।– छत्तीसगढ़ स्टेट पाॅवर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी  ने निर्बाध बिजली आपूर्ति में लापरवाही बरतने वाले दो इंजीनियरों को सस्पेंड कर दिया। इन अभियंताओं के विरूद्ध कंपनी प्रबंधन को लगतार शिकायतें प्राप्त हो रही थी जिसकी जांच शिकायत सही पाये जाने पर इनके निलम्बन की कार्रवाई की गई। शहरी क्षेत्रों की भांति ग्रामीण अंचलों में गुणवत्तापूर्ण सतत् विद्युत प्रवाह कार्यों पर पाॅवर कंपनी द्वारा विशेष ध्यान केन्द्रित किया गया है।

इस हेतु कंपनी मुख्यालय के साथ साथ क्षेत्रीय मुख्यालयों में पदस्थ उच्चाधिकारियों द्वारा सतत् मानीटरिंग की जा रही हैं। उच्चाधिकारियों द्वारा की जा रही ऐसी ही मानीटरिंग के साथ ही विभिन्न क्षेत्रों के उपभोक्ताओं से मिल रही षिकायतों की जांच के दौरान पाया गया कि कटघोरा एवं देवरी क्षेत्र (बालोद) में पदस्थ कनिष्ठ अभियंताओं सर्वश्री नारायण प्रसाद सोनी एवं सुनील कुमार ठाकुर द्वारा निर्बाध विद्युत प्रवाह कार्यों में कोताही की जा रही हैं। पाॅवर कंपनीज के चैयरमेन शैलेंद्र शुक्ला एवं पाॅवर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी के प्रबंध निदेशक मोहम्मद केसर अब्दुल हक ने इसे गंभीरता से लिया और लापरवाह अभियंताओं के विरूद्ध त्वरित कड़ी कार्यवाही के निर्देश दिये।
कंपनी प्रबंधन से मिले निर्देशानुसार पाॅवर डिस्ट्रीब्यूषन कंपनी के कार्यपालक निदेशक (आपरेशन एंड मेन्टेनेंस) बजरंगी मिश्रा के आदेशानुसार सुदूर ग्रामीण इलाकों में निरन्तर विद्युत प्रवाह विषयक कार्यों में लापरवाही बरतने वाले उक्त दोनों कनिष्ठ अभियंताओं को आज तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया। श्री मिश्रा द्वारा जारी निलंबन विषयक आदेशानुसार हसदेव बांगो वितरण केन्द्र संभाग कटघोरा में पदस्थ कनिष्ठ अभियंता श्री सोनी को निलम्बन अवधि में मुख्यालय वृत्त कोरबा तथा देवरी वितरण केन्द्र में पदस्थ कनिष्ठ अभियंता श्री ठाकुर को मुख्यालय वृत्त दुर्ग में नियत किया गया है।
उक्त दोनों कनिष्ठ अभियंताओं के निलंबन के साथ ही कंपनी प्रबंधन द्वारा मैदानी अधिकारियों को ताकीद किया गया है कि दायित्व निर्वहन में ढिलाई बरतने वाले अधिकारियों-कर्मचारियों के कार्यों की जांच की जायेगी। इसी तरह उपभोक्ताओं से प्राप्त शिकायतों का सूक्ष्मतापूर्वक निरीक्षण किया जायेगा तथा दोषी अधिकारियों-कर्मचारियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जायेगी।

Spread the love