दो आरक्षकों ने की लाखों की ठगी, पुलिस में नौकरी लगाने के नाम पर ऐठ लिए 12 लाख रुपये…. हुए फरार

रायपुर 23 मई 2020। राजधानी में दो पुलिसकर्मियों पर धोखाधड़ी करने का आरोप सामने आया है। आरोपियों ने जिला पुलिस बल और सीएएफ में भर्ती कराने के नाम पर लाखों की ठगी की घटना को अंजाम दिया है। पीड़ित की शिकायत के बाद से दोनों आरोपी पुलिसकर्मी फरार है, जिसकी तलाश पुलिस कर रही है। मामला मंदिर हसौद थाना क्षेत्र का है। पीड़ित का नाम मिथलेश कुमार है जो चंदखुरी पुलिस अकादमी में आरक्षक के पद पर तैनात है।

पीड़ित ने अपनी शिकायत में बताया हैं कि माह जून 2019 में उसकी जान पहचान ट्रेड आरक्षक 18 वीं वाहिनी मनेन्द्रगढ़ प्रमोद रजक और आरक्षक विजय कुमार 13 वीं बटालियन से हुई थी, उस दौरान दोनों ने पीड़ित से उसके जान पहचान के लोगों को पुलिस में नौकरी लगाने की बात कही। दोनों ने खुद को बड़े अधिकारियों जान पहचान की बात कही। झांसे में आकर पीड़ित ने अपने रिश्तेदार सहित 12 लोगों के नाम पर अलग-अलग किस्तों में 12 लाख रूपये दे दिये। कुछ दिनों बाद जब नौकरी नहीं मिली तो पीड़ितों ने ठगा हुआ महसूस कर इसकी शिकायत मंदिर हसौद थाने में की गई। थाने में दोनों आरोपियों के खिलाफ धारा 420, 120 बी, 201, 34 भादवि के तहत अपराध दर्ज किया गया है। दोनों आरोपी फरार हैं, जिनकी तलाश जारी है।

वहीं इस मामले में मंदिर हसौद थाना प्रभारी सोनल ग्वाला ने बताया कि, दोनों आरोपी खुद की पहचान बड़े अधिकारियों से बताकर लोगों को झांसे में लिया था। ठगी की शिकायत के बाद से ही दोनों आरक्षकों सस्पेंड हो गए है। दोनों फरार है, जिनकी तलाश की जा रही है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.