आदिवासी कंवर समाज ने राज्यपाल को एक वर्ष पूरे होने पर बधाई और शुभकामनाएं दी….

रायपुर 30 जुलाई 2020. छत्तीसगढ़ प्रदेश के कंवर आदिवासी समाज के अध्यक्ष हरवंश मिरी ,उपाध्यक्ष सविता साय, थानसिंह दीवान ,हरिराम पुजेरी, डॉ संदीप ठाकुर, महासचिव नकुल चंद्रवंशी ,कोषाध्यक्ष बसंत दीवान, सह सचिव कुंजबिहारी सिंह, धनेश्वरी कंवर, महानगर रायपुर के कार्यवाहक अध्यक्ष मनोहर पैंकरा, सचिव मनहरण चंद्रवंशी, छत्रपाल सोनवानी, टुकेश कंवर, इतवारी कंवर, नागेंद्र चंद्रवंशी, सुंदर सिंह पैंकरा ,शिवकुमार कंवर, माखन दीवान सहित प्रदेश के सभी पदाधिकारियों ने छत्तीसगढ़ के राज्यपाल अनुसुईया उईके जी के 29 जुलाई 20 को एक वर्ष पूर्ण होने पर कोटि-कोटि बधाई और शुभकामनाएं देते हुए कहा है कि छत्तीसगढ़ की राज्यपाल अनुसुईया उईके को जब छत्तीसगढ़ के राज्यपाल के रूप में दायित्व सौंपा गया और छत्तीसगढ़ जहाँ 32%आदिवासी जनसंख्या बाहुल्य क्षेत्र जिसमें प्रमुख रूप से गोंड ,कंवर ,हल्बा, उरांव एवं अन्य जनजाति शामिल है। निवास करती हैं उस राज्य में दिनांक 27जुलाई 2019 को प्रथम आगमन हुआ। अनुसुईया उईके छतीसगढ़ के राज्यपाल के रूप में  29जुलाई 2019 को बिलासपुर छत्तीसगढ़ उच्चन्यायालय के मुख्य न्यायाधीश द्वारा शपथ दिलायी गई। तब से लेकर आज तक उन्होंने जनजातीय समाज और अन्य सभी समाज ,धर्म के विकास के बारे में ही हर पल सोचती हैं और आते ही सर्वप्रथान छत्तीसगढ़ के सर्व आदिवासी समाज के माध्यम से आदिवासियों के समस्याओं को जानने के लिए राजभवन आमंत्रित कर उनके समस्याओं को घंटो बैठ कर सुना और 09अगस्त 19 को विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर बिना प्रोटोकॉल के आदिवासी समाज के निवेदन पर जिला धमतरी के मगरलोड के आदिवासी दिवस के कार्यक्रम में शामिल हुई। पहली बार आदिवासी समाज के प्रमुखों को राजभवन के विभिन्न कार्यक्रमो में शिरकत करने के लिए आमंत्रित किया गया और एक वर्ष के भीतर में छत्तीसगढ़ के कोने – कोने से आदिवासी समाज के लोग अपनी- अपनी समस्या और फरियाद को लेकर राजभवन पहुंच कर मुलाकात कर माननीया के समक्ष रखे जिसे माननीय राजयपाल द्वारा सहृदयता से,गंभीरता से सुना और त्वरित कार्यवाही कर निराकरण का प्रयास किया गया। राज्यपाल द्वारा हमेशा कहा जाता है कि खासकर छत्तीसगढ़ के आदिवासी बहुत ही सरल ,विनम्र लेकिन बहुत संकोची है जिसके कारण वे अपनी बात रखने में संकोच करते है और समस्याओं का निराकरण नही हो पाता इसलिए वे उनकी बातों को प्रमुखता से रखते हुए प्रत्येक स्तर पर निराकरण करने का प्रयास करती हैं और मीडिया के माध्यम से हो या आम जनता से मुलाकात के समय हो हमेशा समाज के हित और विकास की ही बात कहती और करती है।

29 जुलाई 2020 का दिन माननीय राज्यपाल महोदया का एक वर्ष पूरा होने पर सभी आदिवासी समाज के लिए बहुत ही गौरव और खुशी का दिन है क्योंकि राज्यपाल के रूप में सुश्री अनुसुईया उईके जी ने एक वर्ष में छत्तीसगढ़ के सभी आदिवासी समाज के हितों के रक्षा के लिए काम की और इस दौरान समाज के छोटे- बड़े ,अमीर -गरीब आदिवासीयों ने राजभवन प्रवेश कर राजभवन को देखा ,राज्यपाल को अपने हित मे काम करते समक्ष में देखा । आदिवासी समाज ने राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके जी को बड़ी बहन के रुप में पाकर संवैधानिक सुरक्षा के रूप में पाये हैं और सभी को फक्र और गुरुर होता है कि उनके हितों के रक्षा और संवैधानिक सुरक्षा के लिए उनकी बड़ी बहन सुश्री अनुसुईया उईके जी एक छत्रप के रुप में छत्तीसगढ़ के राज्यपाल के रूप में खड़ी हैं और उनके रहते , उनके और सरकार के प्रयास से आदिवासी समाज के सामाजिक विकास को एक नई दिशा मिली है और हमेशा मिलते रहेगी और समाज को एक नई ऊंचाई मिलेगी।

Spread the love