बीजेपी में आए इस पूर्व विधायक ने मंच पर अमित शाह की जगह जता दिया कांग्रेस नेता का आभार…..साथी नेताओं ने बतायी गलती तो हुआ अहसास ..फिर बोले…

राजकोट 27 जून 2020। गुजरात में कांग्रेस को बड़ा नुकसान हुआ है। शनिवार को कांग्रेस के पांच पूर्व विधायकों ने भाजपा का दामन थाम लिया। ये सभी उन आठ विधायकों में से हैं जिन्होंने मार्च और जून में कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था।  हालांकि इस दौरान हुए स्वागत समारोह में ऐसा लगा, जैसे ये नेता अभी कांग्रेस को भूले नहीं है. कांग्रेस से बीजेपी में शामिल नेताओं की जुबान पर स्वागत समारोह में भी कांग्रेस का नाम रहा.

हालांकि बीजेपी के इस स्वागत समारोह में कांग्रस से बीजेपी में शामिल हुए जीतू चौधरी की जुबान फिसल गई. उन्होंने बीजेपी में शामिल होने पर गृह मंत्री अमित शाह की जगह अमित चावड़ा का धन्यवाद दिया. हालांकि जब उन्हें अपनी भूल का पता चला, तब तक काफी देर हो चुकी थी.जीतू चौधरी ने बीजेपी में शामिल होने पर जब अमित चावड़ा को धन्यवाद दिया तो समारोह में शामिल लोगों ने तुरंत ही उनकी गलती पकड़ ली. जब जीतू चौधरी को टोका गया तो उन्हें गलती का एहसास हुआ और सुधार करते हुए अमित शाह को धन्यवाद दिया. बता दें कि अमित चावड़ा गुजरात कांग्रेस के अध्यक्ष हैं.

आपको बता दें कि गुजरात में कांग्रेस पार्टी को अलविदा कहकर कांग्रेस के आठ में से पांच पूर्व विधायक भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) में शामिल हो गए. इस दौरान जीतू चौधरी, प्रद्युम्न सिंह जाडेजा, जे वी काकड़िया, अक्षय पटेल और बृजेश मेरजा ने बीजेपी की सदस्यता ग्रहण की.

निर्वाचन आयोग ने जैसे ही राज्यसभा चुनाव की नई तारीख 19 जून का ऐलान किया था, उसके कुछ दिन के बाद ही पटेल, मेरजा और चौधरी ने इस्तीफा दे दिया था. जाडेजा और काकड़िया ने मार्च में विधानसभा की सदस्यता से त्यागपत्र दे दिया था. गुजरात में राज्यसभा चुनाव पहले 26 मार्च को होना था लेकिन कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर देशभर में लगाए गए लॉकडाउन के चलते इसे टाल दिया गया था.

इन पूर्व विधायकों का पार्टी में स्वागत करते हुए वाघाणी ने कहा कि उनकी मौजूदगी स्थानीय स्तर पर पार्टी को मजबूती प्रदान करेगी. उन्होंने यह विश्वास भी जताया कि इन सभी विधायकों के इस्तीफे से रिक्त हुई विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव में बीजेपी अपनी जीत का परचम लहराएगी. उन्होंने कहा कि कांग्रेस की अंदरूनी गुटबाजी और राज्य एवं राष्ट्रीय स्तर पर कमजोर नेतृत्व के चलते इन विधायकों ने कांग्रेस छोड़ने का फैसला किया.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.