1 जुलाई से बदल जायेगा ATM से जुड़ा ये नियम, आप पर पड़ेगा इसका भारी असर, जानिए किन नियमों में होगा बदलाव….

नईदिल्ली 24 जून 2020। देश में 1 जुलाई से बैंक के कई नियमो में बदलाव किया जा रहा है. इन नियमों के दायरे में बैंक में लेनदेन से लेकर एटीएम कार्ड की निकासी है। इन नियमों में बदलाव के साथ ही बैंक में कई चीजो पर आपको अतिरिक्त शुल्क चुकाना पड़ सकता है। आइये जानते हैं 1 जुलाइ से कौन-कौन सा नियम बदल रहा है। एटीएम कैस विड्रॉल 1 जुलाई से आपके लिए महंगा होने जा रहे हैं। जी हां कोरोना संकट के बीच वित्त मंत्रालय ने एटीएम से कैश विड्रॉल करने के लिए सभी ट्रांजैक्शन चार्जेस हटा लिए थे। सरकार ने तीन महीनों के लिए एटीएम ट्रांजैक्शन फीस हाटकर लोगों को कोरोना संकट के बीच बड़ी राहत दी थी। ये छूट सिर्फ तीन महीनों के लिए दी गई थी, जो कि 30 जून 2020 को खत्म होने वाली है।

एटीएम निकासी में छूट खत्म– 1 जुलाई से देश भर में एटीएम निकासी में मिलने वाली छूट खत्म हो जाएगी. वर्तमान में एटीएम से एकबार में 10 हजार रुपये निकालने की छूट है। वहीं निकासी चार्ज पर लॉकडाउन के दौरान तीन महीने की छूट दी गई है। इस दौरान एटीएम से पैसे निकालने पर कोई चार्ज नहीं लगेगा। यह छूट आगामी 30 जून तक लागू रहेगी। वित्तमंत्री निर्मला सीतारणण ने छूट की घोषणा करते हुए कहा था कि ये छूट लोगों को लॉकडाउन से राहत देने के लिए दी गई है।

बैंक ऑफ बड़ौदा अकाउंट करेगा फ्रीज– बैंक ऑफ बड़ौदा ने पिछले दिनों ग्राहकों को एसएमएस भेजकर कहा था कि जल्द से जल्द अपना बैंक अकाउंट अपडेट कराने नहीं तो अकाउंट को फ्रीज कर दिया जाएगा। बता दें कि बैंक ऑफ बड़ौदा में पिछले दिनों देना और विजया बैंक का विलय हुआ था। बैंक अपडेशन के लिए आधार, पैन और राशनकार्ड की आवश्यकता है या ऐसा कोई और पहचान जिसमें डेथ ऑफ बर्थ लिखा हो।

पीएनबी सेविंग अकाउंट पर ब्याज कम- देश के दूसरे सबसे बड़े सरकारी बैंक पीएनबी ने बचत बैंक खातें पर वार्षिक ब्याज दर 0.50 प्रतिशत घटाकर 3.25 प्रतिशत कर दी है। बैंक की वेबसाइट पर उपलब्ध सूचना के अनुसार संशोधित ब्याज दरें 30 जून से लागू होगी। न्यूनतम राशि सुविधा खत्म- 1 जुलाई से बैंक के सेविंग अकाउंट में रूपये रखेने का न्यूनतम राशि वाला नियम खत्म हो जाएगा. सरकार ने 30 जून तक बचत खाते में मिनिमम मंथली बैलेंस मेंटेन रखने की जरूरत को भी खत्म किया हुआ है. अगर ग्राहक के बचत खाते में मिनिमम बैलेंस मौजूद नहीं हुआ तो बैंक उससे चार्ज नहीं वसूलेंगे. अभी मेट्रो सिटी, शहरी, अर्ध शहरी और ग्रामीण इलाकों के हिसाब से अलग-अलग बैंकों में बचत खाते में मिनिमम बैलेंस रखने की लिमिट अलग-अलग है।

बता दें कि लॉकडाउन के बीच वित्त मंत्री ने एटीएम ट्रैंजैक्शन चार्ज को तीन महीने के लिए खत्म कर दिया था। यानी आप इस बीच जितनी बार चाहे एटीएम से कैश निकाले आपको कोई चार्ज नहीं देना होगा, लेकिन ये छूट 30 जून को खत्म होने वाली है। इस नियम में बदलाव सिर्फ 3 महीनों के लिए किया गया था, जिसकी समयसीमा 30 जून को समाप्त हो रही है। सरकार की ओर से ये छूट सिर्फ अप्रैल, मई और जून महीने के लिए ही दी गई थी। अब यह तारीख खत्म हो रही है। यानी 1 जुलाई से एक बार फिर से आपको एटीएम से कैश निकालने पर चार्ज देना होगा। वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार ने एटीएम की ट्रांजेक्शन शुल्क हटाने का फैसला इसलिए लिया था ताकि लोगों को रुपए निकालने के लिए बैंक तक न जाना पड़े।

एटीएम ट्रांजैक्शन गाइडलाइंस के मुताबिक 1 जुलाई से एक बार फिर से पुराने नियम लागू हो जाएंगे, जिसके मुताबिक महीने किसी भी दूसरे बैंक से अगर आप महीने में 5 से ज्यादा बार कैश ट्रांजैक्शन करते हैं तो आपको इसके लिए ट्रांजेक्शन शुल्क देना पड़ेगा। यानी 1 जुलाई 2020 से बैंक के ग्राहक अपने एटीएम से महीने में 5 बार ही रुपए निकालने की छूट है। इसके बाद निकालने पर आपको चार्जेंस देने होंगे। ये चार्जेंज बैंकों ने निर्धारित कर रखें हैं।

Spread the love