….तो ले लिए जायेंगे लॉकडाउन की सारी छूट वापस… अब और सख्त होंगे नियम, 20 अप्रैल से सीमित क्षेत्रों में सशर्त मिल सकती है छूट… PM मोदी बोलें- घर के बुजुर्गों का रखें ख्याल….

नईदिल्ली 14 अप्रैल 2020। देशभर में जारी कोरोना कहर के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देशव्यापी लॉकडाउन की अवधि को 3 मई तक बढ़ाने का फैसला लिया है। कोरोना वायरस लॉकडाउन के 21वें दिन देश के नाम संबोधन में मंगलवार को सुबह 10 बजे पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए देश में 3 मई तक लॉकडाउन जारी रहेगा। हालांकि, उन्होंने कहा कि 20 अप्रैल के बाद कुछ सीमित सेक्टर्स में सशर्त सीमित छूट दी जा सकती है। मगर कोरोना वायरस के मामलों में कमी नहीं दिखने पर इसे वापस ले लिया जाएगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि अगले एक सप्ताह में कोरोना के खिलाफ लड़ाई में कठोरता और ज्यादा बढ़ाई जाएगी। 20 अप्रैल तक हर थाने, हर जिले, हर राज्य को बारीकी से परखा जाएगा। लॉकडाउन का कितना पालन हो रहा है? इसका मूल्यांकन किया जाएगा। जो सफल होंगे, जो हॉटस्पॉट नहीं बढ़ने देंगे, वहां पर 20 अप्रैल से कुछ जरूरी चीजों में छूट की अनुमति दी जा सकती है, लेकिन याद रखिए यह अनुमति सशर्त होगी। लॉकडाउन के नियम अगर टूटते हैं तो सारी अनुमति तुरंत वापस ले ली जाएगी।

पीएम मोदी ने कहा लॉकडाउन के नियम अगर टूटटे हैं और कोरोना का पैर हमारे इलाके में पड़ता है तो सारी अनुमति वापस ले ली जाएगी। इसलिए न खुद लापरवाही करनी है और न दूसरों को लापरवाही करने देनी है। जो क्षेत्र इस अग्निपरीक्षा में सफल होंगे, जो हॉटस्पॉट में नहीं होंगे, और जिनके हॉटस्पॉट में बदलने की आशंका भी कम होगी, वहां पर 20 अप्रैल से कुछ जरूरी गतिविधियों की अनुमति दी जा सकती है।

पीएम ने कहा अगर सिर्फ आर्थिक दृष्टि से देखें तो अभी ये मंहगा जरूर लगता है लेकिन भारतवासियों की जिंदगी के आगे, इसकी कोई तुलना नहीं हो सकती। सीमित संसाधनों के बीच, भारत जिस मार्ग पर चला है, उस मार्ग की चर्चा आज दुनिया भर में हो रही है। इन सब प्रयासों के बीच, कोरोना जिस तरह फैल रहा है, उसने विश्व भर में हेल्थ एक्सपर्ट्स और सरकारों को और ज्यादा सतर्क कर दिया है। भारत में भी कोरोना के खिलाफ लड़ाई अब आगे कैसे बढ़े, इसे लेकर मैंने राज्यों के साथ निरंतर बात की है।

आज भारत बहुत संभली हुई स्थिति में है। करीब एक महीने पहले कई देश कोरोना संक्रमण के मामले में तकरीबन भारत के बराबर थे। आज उन देशों में कोरोना के केस भारत के मुकाबले 25-30 प्रतिशत ज्यादा हैं। वहां कई लोगों की मृत्यु हो गई है:

रोज कमाई करने वाले मेरा परिवार
पीएम मोदी ने कहा कि जो रोज कमाते हैं, रोज की कमाई से अपनी जरूरतें पूरी करते हैं, वो मेरा परिवार हैं। मेरी सर्वोच्च प्राथमिकताओं में एक इनके जीवन में आई मुश्किल को कम करना है। अब नई गाइडलइंस बनाते समय भी उनके हितों का पूरा ध्यान रखा गया है। इस समय रबी फसल की कटाई का काम भी जारी है। केंद्र सरकार और राज्य सरकारें मिलकर प्रयास कर रही हैं कि किसानों को कम से कम दिक्कत हो।

सात बातों में चाहिए आपका साथ
अपने बुजुर्गों का खास ख्‍याल रखें
सोशल डिस्‍टेंसिंग का पालन करें. घर में बने मास्‍क का अनिवार्य रूप से इस्‍तेमाल करें
अपनी इम्‍युनिटी बढ़ाने के लिए आयुष मंत्रालय के निर्देशों का पालन करें. मसलन काढ़ा, गर्म पानी पीने संबंधी सुझावों पर अमल करें.
कोरोना संक्रमण का फैलाव रोकने के लिए और सही जानकारी जानने के लिए आरोग्‍य सेतु ऐप डाउनलोड जरूर करें
जितना हो सके, गरीबों की देखभाल करें. उनके लिए भोजन का इंतजाम करें.
अपने व्‍यवसाय, उद्योग से किसी को नौकरी से ना निकालें
कोरोना योद्धाओं मसलन, स्‍वास्‍थ्‍यकर्मी, डॉक्‍टर, नर्सों का सम्‍मान करें.

Spread the love