किसान आंदोलन का पेंच उलझा….सुप्रीम कोर्ट की बनायी कमेटी से भूपिंदर सिंह मान हुए अलग… बोले- मैं किसान के साथ ….चार सदस्यीय बनायी गयी थी कमेटी

नयी दिल्ली 14 जनवरी 2021। किसान आंदोलन सुलझने के बजाय उलझता जा रहा है। सुप्रीम कोर्ट की बनायी कमेटी से भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष भूपिंदर सिंह मान ने खुद को अलग कर लिया है। पिछले दिनों किसान आंदोलन पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने तीनों कृषि कानून पर अस्थायी रूप से रोक दिया था। साथ ही चार सदस्यीय कमेटी बनाकर मामले को सुलझाने का निर्देश दिया था। इस कमेटी में भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय अध्यक्ष और अखिल भारतीय किसान समन्वय समिति के अध्यक्ष भूपिंदर सिंह मान भी शामिल थे। अब उन्होंने खुद को कमेटी से अलग कर लिया है.

दरअसल, भूपिंदर सिंह मान के नाम पर शुरू से बवाल हो रहा था. आंदोलन कर रहे किसानों का कहना था कि भूपिंदर सिंह मान पहले ही तीनों कृषि कानून का समर्थन कर चुके हैं.

‘किसी भी पद की बलि दे सकता हूं’

भूपिंदर सिंह मान ने कमेटी में शामिल करने के लिए सुप्रीम कोर्ट का आभार जताया, लेकिन आगे लिखा है कि एक किसान और संगठन का नेता होने के नाते मैं किसानों की भावना जानता हूं. मैं अपने किसानों और पंजाब के प्रति वफादार हूं. इन के हितों से कभी कोई समझौता नहीं कर सकता. मैं इसके लिए कितने भी बड़े पद या सम्मान की बलि चढ़ा सकता हूं. मैं कोर्ट की ओर से दी गई जिम्मेदारी नहीं निभा सकता. मैं खुद को इस कमेटी से अलग करता हूं.

कौन हैं भूपिंदर सिंह मान

सुप्रीम कोर्ट ने किसान और सरकार के बीच गतिरोध को खत्म करके समाधान निकालने के लिए चार सदस्यीय कमेटी बनाई है. इस कमेटी में ऑल इंडिया किसान कॉर्डिनेशन कमेटी के प्रमुख और पूर्व राज्यसभा सांसद भूपिंदर सिंह मान को भी शामिल किया गया था. उनका संगठन के तहत कई किसान संगठन आते हैं, ऐसे में किसानों पर उनका प्रभाव भी अच्छा है.

Spread the love