comscore

बेटे के शव को दुलारते हुए मां कह रही थी…..उठ जा मेरे बेटे…मत जा मुझे छोड़के…..कुछ देर में ही बच्चे की चलने लगी सांसे…..अंतिम संस्कार की हो चुकी थी तैयारी, अर्थी पर शव रखने से पहले हुआ चमत्कार…

बहादूरगढ़ 17 जून 2021। …डाक्टरों ने बच्चे को मृत घोषित कर दिया था….शव पैक कर घर पहुंच चुका था….अर्थी तैयार हो गयी थी, रिश्तेदार श्मशान पहुंच गये थे…..लेकिन मां की करूण पुकार ने ऐसा चमत्कार दिखाया कि बच्चा जिंदा हो गया। दैवीय चमत्कार की ये खबर हरियाणा के बहादूरगढ़ की है। …जहां 6 साल के बच्चे की अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गयी थी। 6 साल के बच्चे हितेश का इलाज दिल्ली के बड़े अस्पताल में चल रहा था। बच्चे को टायफाइड की बीमारी के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

26 मई को बच्चे की इलाज के दौरान मौत हो गयी, जिसके बाद बच्चे के परिजन शव लेकर दिल्ली से हरियाणा आ गये। बहादूरगढ़ में बच्चे के अंतिम संस्कार की तैयारी शुरू हो गयी। बच्चे का शव अर्थी पर रखने के ठीक पहले परिवार के लोग दहाड़ मार-मारकर रो रहे थे, वहीं मां जहान्वी बेटे के माथे पर बार-बार चूमकर कह रही थी.. उठ जा मेरे बेटे..उठ जा…बिलखती मां बार-बार ऐसा कहते हुए बच्चे के शरीब को हिला रही थी… इसी दौरान कफन में पैक शव हरकत करने लगा। ये देखकर पूरा परिवार हैरान रह गया।

आनन-फानन में कफन को खोला गया, चेहरा खोलकर बच्चे के पिता मुंह से बच्चे को सांस देने लगे, वहीं मौजूद कुछ लोग छाती दबाने लगे। इधर बच्चे के पिता लगातार मुंह से बच्चे के मुंह में सांस भर रहे थे, तभी अचानक से बच्चे ने पापा के होठ को दांत से काट लिया। आनन-फानन में बच्चे को अस्पताल ले जाया गया, इधर मां लगातार बच्चे के लिए दुआ मांगने लगी। डाक्टरों ने बच्चे को जिंदा तो बताया, लेकिन बचने की उम्मीद सिर्फ 15 प्रतिशत ही बतायी।

मां की दुआ और डाक्टर की मेहनत का असर ऐसा हुआ कि कुछ दिन में ही बच्चा पूरी तरह से स्वस्थ्य हो गया, मंगलवार को ये बच्चा घर पहुंच गया है और पूरी तरह से स्वस्थ्य है। डाक्टरों के मुताबिक एक सप्ताह में बच्चा पूरी तरह से सामान्य हो जायेगा।

Spread the love