इन 6 बिहारियों की शादी रही है खूब चर्चित : रामविलास पासवान से लेकर सुशील मोदी तक….किसी ने की एयर होस्टेस से की शादी…तो किसी ने पत्रकार और टीचर से लव मैरिज

पटना 25 अक्टूबर 2020। बिहार चुनाव की सरगर्मी चरम पर है। भले ही लोग कभी बिहार गये हो ना गये हों…बिहार को वो ज्यादा जानते हो या नहीं हो…लेकिन बिहार की राजनीति और बिहार के नेताओं से उनकी काफी दिलचस्पी होती है। लालू से लेकर नीतीश तक और तेजस्वी से लेकर चिराग पासवान तक हर किसी के बारे में जानने और उनकी जिंदगी से जुड़ी अहम पहलुओं के बारे में दिलचस्पी रखते हैं। आज हम उसी कड़ी में बता रहे हैं उन नेताओं के बारे में जिन्होंने अंतर जातीय विवाह किया। उनमें से कुछ ने तो दूसरे धर्म में भी शादियां की।

पहले हम शुरुआत करते हैं LJP सुप्रीमो चिराग पासवान के हाल ही में दिवंगत हुए पिता रामविलास पासवान से। रामविलास पासवान ने दो शादियां की थी। एक शादी तो उन्होंने अपने जाति में की थी, लेकिन दूसरी शादी उन्होंने सिक्ख धर्म की लड़की रीना से की। ये प्रेम विवाह था। उन्होंने 1982 में हरियाणा की रहने वाली एयरहोस्टेस रीना से प्रेम विवाह किया था। इस पत्नी से उनकी संतान चिराग पासवान हैं. इसके अलावा इस शादी से उनकी एक बेटी भी है. रामविलास पासवान की पहली शादी साल 1960 में राजकुमारी देवी से हुई थी. 1981 में लोकसभा चुनावों के दौरान पासवान ने सार्वजनिक रूप से बताया था कि उन्होंने अपनी पहली पत्नी से तलाक ले लिया है. इस पत्नी से उनकी दो बेटियां ऊषा और आशा हैं. दोनों की ही शादी हो चुकी है. लेकिन रामविलास पासवान बिहार के अकेले नेता नहीं हैं, जिन्होंने धर्म और जाति के बंधनों को तोड़कर शादी की और समाज को बदलाव का रास्ता दिखाया.

पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता शाहनवाज हुसैन ने जाति धर्म की दहलीज को लांघकर शादी की है। मुस्लिम समुदाय के शाहनवाज हुसैन ने हिंदू धर्म की रेनू से शादी की है। गौरतलब है कि 1992 के बाबरी विध्वंस और 1993 के मुंबई बम धमाकों के बाद हिंदू-मुसलमान में जिस वक्त कड़वाहट चरम पर थी उसी समय शाहनवाज और रेनू का प्यार भी चरम पर था। 1994 में दोनों ने शादी रचा ली थी।

बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने भी ईसाई धर्म में शादी की है। बिहार के दिग्गज भाजपा नेता की ये शादी भी लव मैरिज है। उनकी पत्नी का नाम जेसिस जार्ज है। आरएसएस में रहते सुशील मोदी की ट्रेन में जेसिस जार्ज से मुलाकात हुई थी, जहां से ये प्रेम परवान चढ़ा और फिर घरवालों की मर्जी से दोनों की शादी हो गयी। सुशील मोदी की शादी में अटल बिहारी वाजपेयी ने भी शिरकत की थी। खुद सुशील मोदी ने कहा था कि उन्होंने वाजपेयी जी को कार्ड पर निमंत्रण भेजा था और वो पहुंच गये थे। शादी में सुशील मोदी को राजनीति में आने का आफर मिला था।

बिहार के प्रमुख नेता और पूर्व सांसद पप्पू यादव ने भी धर्म के बंधनों को प्रेम के आगे कुर्बान कर एक सिख महिला से शादी की है. उनकी पत्नी रंजीता रंजन सिख हैं. उनका परिवार आनंद मार्गी है. कहा जाता है कि उन्होंने अपनी शादी में सारे शहर को आमंत्रित कर रखा था दोनों ने लव मैरिज की है औऱ दोनों की लवस्टोरी भी किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं है। खुद पप्पू यादव ने कहा था कि रंजीता रंजन को पाने के लिए उन्होंने काफी मेहनत की थी। आज दोनों राजनीति के नामी चेहरे हैं।

राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख नेताओं में से एक श्याम रजक और उनकी पत्नी ने भी शादी के लिए जाति के बंधन को तोड़ा है. उनकी पत्नी सवर्ण जाति से हैं. दोनों ने प्रेम विवाह किया है. अल्का पेशे से पत्रकार हैं. श्याम रजक पिछड़ी जाति से हैं तो अल्का सवर्ण जाति की थीं। समाज के डर से परिवार वाले दोनों की शादी के खिलाफ थे। हालांकि, इन लोगों ने हार नहीं मानी और लगातार अपने परिवार के सदस्यों को मनाने की कोशिश की। कोशिश रंग लाई और 7 साल बाद दोनों के परिवार वाले इस शादी के लिए तैयार हो गए। अल्का औऱ श्याम रजक की शादी में बॉलीवुड सुपरस्टार शाहरुख खान ने शिरकत की थी।

बीजेपी के बड़े नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी ने हिमाचल प्रदेश की रहने वालीं नीलम से लव मैरिज की है। नीलम पेशे से एयरहोस्टेस थीं। जब रूडी नागरिक उड्डयन मंत्री बने तो नीलम ने नौकरी छोड़ दी थी।

Spread the love