जिस सिरफिरे किडनैपर को पुलिस ने इनकाउंटर में किया था ढेर, उसी की बेटी को एक IPS ने लिया गोद…….बच्चों को बंधक बनाने वाले की पत्नी को भी ग्रामीणों ने मार डाला था…..1997 बैच के IPS अभी कानपुर के IG हैं… पूरे देश में हो रही है इनकी चर्चा

लखनऊ 2 फरवरी 2020। IPS मोहित ने जो कुछ किया है, वो ना सिर्फ यूपी पुलिस बल्कि पूरी मानवता के लिए मिसाल बन गयी है। जिस राज्य की पुलिस ने 72 घंटे पहले सिरफरे किडनैपर को मार गिराया और उसकी पत्नी को ग्रामीणों ने पीट-पीटकर मार डाला था, उसकी अनाथ बेटी को उसी राज्य के IPS ने गोद ले लिया है। आईपीएस मोहित अग्रवाल अभी कानपुर के आईजी है। बर्थडे के बहाने 23 बच्चों को बंदूक की नोंक पर बंधक बनाने वाले सुभाष को पुलिस ने 11 घंटे चले आपरेशंस के बाद ढेर कर दिया था, वहीं उसकी पत्नी रूबी को ग्रामीणों ने पीट-पीटकर मार डाला था।

1997 बैच के आईपीएस अफसर और कानपुर के आईजी रेंज मोहित अग्रवाल बताते है कि ‘इस घटना के बाद इस अनाथ बच्ची को लेने इसके घरवाले या रिश्तेदार नहीं आ रहे थे. ये बच्ची अभी अनाथ और बेसहारा है. इसलिए इसको अब हमने गोद लेने का फैसला लिया है।  इसे किसी अच्छे हॉस्टल वाले स्कूल में पढायेंगे. और आईएएस, आईपीएस जैसा कोई बड़ा अफसर बनवाएंगे. इसका पूरा ध्यान रखा जाएगा, ताकि ये बच्ची ऐसा न सोचे कि इसका कोई नहीं है. ये अभी बहुत छोटी बच्ची है, इसका नाम गौरी है. हम लोग इसका पूरा ध्यान रखेंगे और इसे गोद लेंगे. इसको हम बडा अफसर बनाएंगे.

ये था पूरा मामला

बात दें कि बीते शुक्रवार को फर्रुखाबाद में एक सजायफ्ता आरोपी ने अपनी बच्ची के जन्मदिन के अवसर पर बच्चों को बुलाकर सबको कमरे में बंद कर दिया. उसके बाद उसने तेईस करोड़ की मांग की जिसके बाद फ़िल्मी अंदाज में बच्चों को कमरे में बंद कर पति और पत्नी फायरिंग करने लगे. उसके बाद पुरे प्रदेश में इस घटना से हडकम्प मच गया. फिर पुलिस ने जैसे तैसे इस मामले को सुलझाया और आरोपी को मार गिराया. इतने में भीड़ के हाथों उसकी पत्नी आ गई जिसको ग्रामीण ने बुरी तरह पीट डाला. जिसकी इलाज के दौरान मौत हो गई. उसके बाद उनकी एक साल की बच्ची बच्ची को आईजी मोहित अग्रवाल ने गोद ले लिया है. उसकी देखभाल की जिम्मेदारी ली है.

 

Spread the love