एनकाउंटर की पूरी कहानी: मीडिया को जहां रोका गया, वहां से कुछ दूर ही हुआ एनकाउंटर…..फुल स्पीड गाड़ी और तेज़ बारिश के बीच 15 मिनट में गैंगस्टर कर दिया गया ढेर

कानपुर 9 जुलाई 2020। 8 पुलिसकर्मियों की मौत का गुनाहगार विकास दुबे इनकाउंटर में ढेर कर दिया गया है। गिरफ्तारी के 24 घंटे का भीतर ही विकास दुबे मार गिराया गया। जहां ये एनकाउंटर हुआ उससे कुछ ही दूरी पर मीडिया की गाड़ी को रोक दिया गया था। खबर है कि STF की टीम उसे लेकर मध्यप्रदेश से कानपुर आ रही थी, इसी दौरान रास्ते में गाड़ी का एक्सीडेंट हुआ। जानकारी मिली है कि विकास दुबे ने गाड़ी के एक्सीडेंट होने का फायदा उठाकर एक जवान के हथियार को छीनकर भागने की कोशिश की, इसी दौरान इनकाउंटर हुआ, जिसमे गैंगस्टर को ढेर जर दिया गया। एनकाउंटर में कुछ पुलिसकर्मियों के घायल होने की भी खबर है।

हादसा कानपुर टोल प्लाजा से 25 किलोमीटर दूर हुआ। घटनास्थल से सात से आठ किलोमीटर की दूरी पर विकास दुबे और पुलिस के बीच मुठभेड़ हुआ। इस मुठभेड़ में विकास दुबे गंभीर रूप से घायल हो गया था। उसे तुरंत लाला लाजपत राय हॉस्पिटल में लाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया है।

*प्रत्यक्षदर्शी ने सुनी फायरिंग की आवाज*

मौके पर मौजूद प्रत्यक्षदर्शी का कहना है कि हमने फायरिंग की आवाज सुनी थी. गाड़ी का एक्सीडेंट नहीं हुआ था. हमने गोली की आवाज सुनी. इसके बाद पुलिस ने हमें भगाने की कोशिश की. हम वहां से हट गए. हम लोगों ने गोलियों की आवाज सुनी थी.

*कैसे हुआ हादसा*

हादसे को लेकर यूपी एसटीएफ के अफसर अभी कुछ बोलने से बच रहे हैं, लेकिन माना जा रहा है कि मीडिया की नजर से विकास दुबे को बचाने के लिए गाड़ी की रफ्तार काफी तेज थी. बारिश और तेज रफ्तार के कारण गाड़ी पलट गई।

Spread the love