ट्रंप के साथ उड़ता है व्‍हाइट हाउस जैसी सुविधा वाला एयरफोर्स-1 प्लेन….आपात स्थिति से निपटने में भी सक्षम है ये हवाई जहाज… जानिये इसकी खूबियां

 

  • ऑपरेशन रूम में हमेशा मौजूद रहता है डॉक्टर

 

अहमदाबाद 21 फरवरी 2020 ।  अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पत्नी मिलानिया ट्रंप के साथ दो दिवसीय दौरे पर भारत आ रहे हैं। 24 और 25 फरवरी 2020 को ट्रंप भारत में रहेंगे। इस दौरान वे नई दिल्ली के अलावा अहमदाबाद (गुजरात) और ताज महल (आगरा) भी जाएंगे। ट्रंप तीन स्तर के सुरक्षा घेरे में रहेंगे। अमेरिकी अफसरों ने जानकारी दी है कि सुरक्षा का पहला घेरा उनका ही रहेगा। खबर के अनुसार, ट्रंप पहले अहमदाबाद जाएंगे। फिर आगरा होते हुए दिल्ली पहुंचेंगे।

आपने पढ़ा होगा कि अमेरिकी राष्ट्रपति एयरफोर्स वन से भारत आएंगे। लेकिन क्या आप जानते हैं कि ये विमान कितना ताकतवर है? उस विमान की खासियत क्या है जिसमें अमेरिकी राष्ट्रपति सफर करते हैं? इसके बारे में आगे पढ़ें।

अमेरिकी एयरफोर्स के जिस भी विमान में वहां के राष्ट्रपति सफर कर रहे हों, उसे तकनीकी रूप से एयरफोर्स वन कहा जा सकता है। यह एक कॉलसाइन होता है।

  • लेकिन 20वीं सदी के मध्य से एक नई व्यवस्था शुरू हुई, जिसके अनुसार राष्ट्रपति के सफर के लिए सभी जरूरी सुविधाओं से लैस एयरफोर्स के विमानों को ही एयरफोर्स वन कहा जाने लगा।
  • ऐसे दो सबसे खास विमान हैं – बोइंग 747-200बी सीरीज के विमान। इन विमानों में पीछे की तरफ 28000 और 29000 कोड लिखा होता है।
  • इस विमान पर बड़े अक्षरों में लिखा होता है – ‘United States of America’। साथ ही अमेरिका के झंडे और अमेरिकी राष्ट्रपति की सील होती है।
  • यह 45 हजार फीट तक की ऊंचाई पर उड़ान भर सकता है। इसकी ऊंचाई 6 मंजिले इमारत जितनी और लंबाई एक फुटबॉल के मैदान जितनी है।

हवा में उड़ने वाला व्‍हाइट हाउस

4,000 वर्ग फीट आंतरिक स्‍पेस वाले इस विमान में एक समय में सौ लोगों के खाने का इंतजाम है। इसमें राष्‍ट्रपति के साथ आने वालों के लिए क्‍वार्टर हैं। उनके साथ आने वालों में सीनियर एडवाइजर, सीक्रेट सर्विस के ऑफिसर, मीडिया व अन्‍य कई गेस्‍ट होंगे। इसके अलावा एयर फोर्स वन को जरूरी निर्देशों के लिए कई कार्गो प्‍लेन भी हैं।

एयरफोर्स वन

एयरफोर्स वन में अंदर क्या है खास 
बोइंग का कहना है कि इसमें 4,000 वर्ग फुट की जगह है. राष्ट्रपति और उनके साथ यात्रा करने वालों के लिए तीन लेवल में जगह दी गई है. इसमें राष्ट्रपति के लिए बड़ा सुइट (कमरा) भी शामिल है, जिसमें बड़ा ऑफिस, टॉयलेट और कॉन्फ्रेंस रूम है. एयरफोर्स वन में एक चिकित्सा कक्ष भी है जो कि ऑपरेशन रूम की तरह काम करता है और इसमें डॉक्टर हमेशा मौजूद रहता है. विमान में दो किचन है, जिसमें एक समय में 100 लोगों के लिए खाना बनाया जा सकता है.

एयरफोर्स वन में राष्ट्रपति के साथ चलने वालों के लिए कमरे (क्वार्टर) भी बने हैं। इसमें वरिष्ठ सलाहकार, खुफिया सेवा के अधिकारी समेत अन्य अतिथि शामिल हैं.

एयरफोर्स वन

 

एयरफोर्स वन की खासियत

  • किसी राष्ट्रपति द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला ये दुनिया का सबसे आधुनिक और बड़ा विमान है।
  • इस विमान का दायरा असीमित है। अमेरिकी राष्ट्रपति जहां चाहें और दुनिया के जिस कोने में भी जरूरत हो, ये विमान आसानी से उस जगह पहुंच सकता है।
  • इस विमान में बीच हवा में भी जरूरत पड़ने पर दोबारा ईंधन भरे जाने की क्षमता है।
  • इस विमान में एक बार में 2.03 लाख लीटर ईंधन भरा जा सकता है।
  • विमान पर जितने इलेक्ट्रॉनिक उपकरण लगे हैं, वे इतने मजबूत हैं कि उनपर विद्युत चुंबकीय कंपन (Electromagnetic Pulse) का असर नहीं हो सकता।
  • विमान का कम्युनिकेशन सिस्टम इस तरह का है कि अमेरिकी राष्ट्रपति इसे मोबाइल कमांड सेंटर की तरह भी इस्तेमाल कर सकते हैं। यानी किसी तरह की आपत्ति की परिस्थिति में राष्ट्रपति विमान में उड़ते हुए कहीं से भी अपनी सेना व अधिकारियों को कमांड दे सकते हैं।
  • एयरफोर्स वन की देखरेख व संचालन प्रेसिडेंशियल एयरलिफ्ट ग्रुप द्वारा किया जाता है जो व्हाइट हाउस मिलिट्री ऑफिस का हिस्सा होता है। ये एयरलिफ्ट ग्रुप 1944 में बनाया गया था।
  • शुरू के करीब 15 सालों तक, अमेरिकी राष्ट्रपति अलग-अलग विमानों में सफर करते रहे। 1962 में खासतौर पर अमेरिकी राष्ट्रपति के लिए बनाए गए जेट विमान में सफर करने वाले पहले शख्स थे जॉन एफ केनेडी।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.