DEO के पोस्ट पर मचा बवाल – “हराम के वेतन” वाले स्टेटमेंट को शिक्षक संगठन ने माना राष्ट्र निर्माता का अपमान….फेडरेशन ने कहा- अधिकारी को हटाया जाये या नहीं तो सार्वजनिक माफी मांगे

जशपुर 14 अक्टूबर 2020।  बालोद डीईओ आर एल ठाकुर के एक पोस्ट पर बवाल मच गया है। डीईओ ने बीईओ व एबीईओ शिक्षा विभाग के नाम से बने एक वाट्सएप ग्रुप में एक निर्देश डाला है, जिसमें उन्होंने सभी बीईओ को ध्यान देना व 400 से अधिक प्राथमिक, मिडिल स्कूलों में नेशनल स्कालरशिप पोर्टल में KYC नही करने पर नाराजगी जताते हुए विवादित व आपत्तिजनक तरीके से लिखा है कि-“हराम का वेतन पाने की प्रवृत्ति बढ़ गई है ” कल अंतिम तिथि है! उनके इस निर्देश को कुछ विकास खंड शिक्षा अधिकारियों ने ग्रुपों में पोस्ट भी कर दिया है! डीईओ के इस तेजी से वायरल हो रहे आपत्तिजनक टिप्पणी पर जिले, प्रदेश के शिक्षकों व फैडरेशन ने गहरी आपत्ति व्यक्त की है! फैडरेशन के जिला व सभी ब्लॉक इकाई ने इस बयान पर विरोध जताया है! वही इस खबर से अब विरोध का स्वर पूरे प्रांत स्तर पर पंहुच गया!

छत्तीसगढ़ सहायक शिक्षक फैडरेशन के प्रदेशध्यक्ष मनीष मिश्रा,उपाध्यक्ष शिव मिश्रा, प्रदेश सचिव सुखनन्दन यादव,कोषाध्यक्ष अजय कुमार गुप्ता ने डीईओ के इस बयान पर सख्त विरोध जताया है! पदाधिकारियों ने कहा कि शासकीय निर्देश का पालन कराने व नही करने पर कार्रवाई की जिम्मेदारी अधिकारियों की है! परंतु इस तरह गाली गलौज की भाषा का प्रयोग कर व दबाव पूर्वक कार्य कराने की तरीके से सख्त नाराजगी है! पदाधिकारियों ने कहा कि जारी निर्देश चाहे किसी संबंधित नीचे के अधिकारियों या किसी शिक्षकों के लिए हो,,भाषा आपत्तिजनक है!

इस पर फैडरेशन के प्रदेश कोषाध्यक्ष अजय कुमार गुप्ता ने कहा शिक्षा जैसे पवित्र सेवा को हराम बताने वाले अधिकारी शिक्षक ही थे, अब पूरे कौम को गाली दे रहे है, यह शिक्षा विभाग में अफसरशाही, बदजुबानी व निरंकुशता का परिचायक है, यह अधिकारी शिक्षक व गुरु का सम्मान नही कर सकता,,फैडरेशन ने शिक्षा विभाग के उच्च प्रशासकों से ऐसे अधिकारी पर कार्यवाही की मांग करते हुए कहा है कि अधिकारी को पद से हटाएँ या अधिकारी सार्वजनिक रूप से माफी मांगे!

Get real time updates directly on you device, subscribe now.