केंद्र सरकार ने भेजा राज्यों को पत्र -“.. बारदानों की माँग को लेकर वक्त पर नही मिली जानकारी..सबको पर्याप्त आपूर्ति संभव नही.. “

नई दिल्ली, 14 सितंबर 2020। धान ख़रीदी के लिए सबसे अहम बारदाना इस बार उतनी मात्रा में उपलब्ध नहीं हो पाएगा जितनी कि माँग होगी। केंद्र सरकार ने उक्ताशय का पत्र जिन राज्यों को भेजा है उनमें छत्तीसगढ़ भी शामिल है।
केंद्र सरकार की ओर से जारी इस पत्र में लिखा गया है कि राज्य की ओर से बारदाना की कितनी माँग होगी यह वक्त पर नहीं बताया गया है। जूट मिलर्स एसोसिएशन के हवाले से पत्र में उल्लेख है कि वे फ़िलहाल तेरह लाख अस्सी हज़ार बारदाना दे सकते हैं जबकि अब जो माँग आई है वो 23 लाख 87 हज़ार की है। ऐसी स्थिति में यह संभव नहीं है कि जो अंतर का बारदाना है वह राज्यों को उपलब्ध कराया जा सके।केंद्र की ओर से उपाय के तौर पर बताया गया है कि, एक बार उपयोग में आ चुके बारदाना को ही फिर से उपयोग में ले लें।
बारदाना को लेकर हर धान ख़रीदी में समस्या होती रही है, यदि बारदाना माँग के अनुरुप नहीं आ पाया तो ज़ाहिर है समस्या गंभीर रुप ले सकती है।ऐसे में यह कहते हुए कि राज्य ने वक्त पर माँग की जानकारी नहीं भेजी केंद्र ने गेंद राज्यों के पाले में डालने की क़वायद की है।

Spread the love