गाँजा तस्करी करते धराए सरायपाली विधायक के साले साहब….भाजपा ने लगाया तीखा आरोप तो भड़के विधायक ने खोया आपा…बोले – “ कौन बोलता है.. मार दूँगा”.. फिर जताया खेद

रायपुर,17 दिसंबर 2020। साले का रुतबा हमेशा जीजा पर भारी होता ही है, कहावत यूँ ही तो बनी नही है कि सारी खुदाई एक तरफ़ और जोरु का भाई एक तरफ़। पर यह मसला तब तकलीफ़ का सबब बनता है जब साले साहेब मुसीबत का पर्याय बन जाएँ। सरायपाली के विधायक क़िस्मतलाल नंद के रिश्ते में साले सूर्यकांत नाग राजधानी की आमानाका पुलिस की चेकिंग में कार में करीब 22 किलो गाँजे के साथ गिरफ़्तार किए गए हैं, मसला यहीं तक थमता तो भी बात थी, दरअसल जिस कार में यह गाँजा बरामद हुआ है वह विधायक क़िस्मत लाल नंद की श्रीमती के नाम रजिस्टर्ड है। अब मसला जब सामने आया तो ज़ाहिर है विधायक क़िस्मत लाल नंद मीडिया के सामने क़िस्मत को ही को रहे हैं।
डीएसपी रहे क़िस्मत लाल नंद उन क़िस्मत के धनियों में शामिल रहे हैं जिन्हे सियासत में भी सफलता मिली है। क़िस्मतलाल नंद सरायपाली से कांग्रेस विधायक हैं। कल देर रात जबकि पत्नी के नाम से रजिस्टर्ड कार में रिश्ते में साले साहेब गाँजा की तस्करी करते हुए दो अन्य साथियों के साथ सपड़ाए तो पुलिस पूछताछ में साले साहब ने कार का ब्यौरा देते हुए “जीजा विधायक हैं हमारे” की पहचान बताई। हालाँकि इससे कुछ असर नही हुआ और पुलिस ने एफआईआर खींच दी और कार की जप्ती करते हुए सभी को गिरफ़्तार कर लिया।
मामला थमा ही था, तभी विधायक क़िस्मत लाल नंद के किसी क़रीबी से ही यह बात भाजपाईयों तक पहुँच गई कि साले साहेब गाँजा समेत गिरफ़्तार किए गए हैं। नतीजतन भाजपा की ओर से गौरीशंकर श्रीवास ने सोशल मीडिया पर तंज भरा पोस्ट कर दिया साथ ही भाजपा की ओर से विज्ञप्ति जारी कर इस पूरे मामले को कांग्रेस से जोड़ते हुए सवाल खड़े कर दिया गया।
कुछ देर बाद ख़बरें आई कि, राजनैतिक आरोप और तीखे तंज से नाराज विधायक क़िस्मत लाल नंद ने तैश में मीडिया कर्मी से कह दिया

“कौन है .. कौन है .. जो आरोप लगा रहा है.. मैं मारुंगा उसको”

विधायक के इस तरह उखड़ने से भाजपा को और हमलावर होने का मौका मिल गया, और अब इस मसले पर भाजपा मसले को थाने से लगायत राज्यपाल तक ले जाने की क़वायद में है।
इधर सरायपाली विधायक क़िस्मत लाल नंद ने NPG से कहा –

“यह सही है कि वो दूर के रिश्ते से साला है, उसके संदिग्ध मित्रों की वजह से उसे मैने संपर्क से बाहर कर रखा है, वो घर में जरुरी काम बताकर कार ले गया। मेरा ऐसे किसी काम में कोई समर्थन नही होता.. मुझे सूचना मिल गई थी पर मैने कोई सिफ़ारिशी फोन कहीं भी नही किया है। यह सही है कि आवेश में मुझसे भाजपा के किसी नेताजी के लिए कुछ शब्द निकल गए.. मुझे खेद है.. लेकिन आरोप लगाने के पहले तथ्यों को देख लेते तो बेहतर होता। सूर्यकांत को पकड़ा गया है तो क़ानून अपना काम करेगा.. मैं फिर बता दूँ ऐसे किसी काम में मेरा कोई संरक्षण नही होता और ना ही है”

Spread the love