60% लाने वाला लड़का सिर्फ 4 घंटे पढ़ाई करके बना IAS…चार बार हुए फेल ,पांचवी बार तीसरी रैंक हासिल कर लोगो को किया हैरान…पढ़िए इंजीनियर से IAS बनने की कहानी….

बिजनौर 17 अप्रैल 2020. लड़कों को ऊपर भले घर परिवार की जिम्मेदारी हो लेकिन वो स्कूल और कॉलेज टाइम में पूरे टशन में रहते हैं। स्कूल में पढ़ाई पर ध्यान नहीं देते। टॉपर बनने वाले भी कुछ ही लड़के होते हैं। ऐसे में एक औसत छात्र ने यूपीएससी में टॉप कर डाला। ये बात जब उसके घर-परिवार और दोस्तों को मालूम हुई तो सब दंग
रह गए। उसने ये पूरी परीक्षा मात्र 4 घंटे पढ़ाई करके पूरी की जबकि यूपीएससी (UPSC) जैसी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले स्टूडेंट्स 10 से 12 घंटे पढ़ाई करते है।

जुनैद एक मध्यमवर्गीय मुस्लिम परिवार से आते हैं। उत्तर प्रदेश के बिजनौर में उनका घर है। उनके पिता जावेद हुसैन पेशे से वकील हैं और मां आयश रजा एक हाउस मेकर हैं।…जुनैद बताते हैं कि बिजनौर के नगीना कस्बे में पले-बढे हैं।…शुरू से ही वे पढ़ाई में औसत छात्र थे। दसवीं और 12वीं की परीक्षा में उनके लगभग 60 फीसदी अंक आए थे। उन्होंने हमेशा टशन में रहकर पढ़ाई को हल्के में लिया। हालांकि वो बाकी छात्रों से बेहतर थे।…
जुनैद ने 12वीं के बाद शारदा यूनिवर्सिटी, नोएडा से इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है और वहां भी उनके 65 फीसदी तक ही अंक आए। कॉलेज की पढ़ाई करने के बाद जुनैद के मन में IAS अधिकारी बनने का सपना जागा। लोग कहते थे कि 60 प्रतिशत वाला कोई औसत छात्र आईएएस नहीं बन सकता।…

फिर भी जुनैद ने भारतीय प्रशासनिक सेवा में जाने की सोची। हालांकि उनके परिवार में कोई प्रशासनिक सेवा में नहीं था। ऐसे में कोई अधिक जानकारी भी नहीं थी लेकिन फिर भी उन्‍होंने इस बारे में रिसर्च शुरू की और फिर तैयारी शुरू कर दी।…

वर्ष 2013 से उन्होंने खुद को पढ़ाई में झोंक दिया। घर वालों का भी उन्हें पूरा सपोर्ट मिला। शुरुआत मे जुनैद को तैयारी करने में बड़ी मुश्किलें आईं, लेकिन जब एक बार वो कन्विंस हो गए
कि वे IAS बन सकते हैं तो कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।…

जुनैद रोज सुबह पांच बजे से उठकर तैयारी में जुट जाते थे और दोपहर 11-12 बजे तक पढ़ते थे…
वे हर रोज कम से कम 9-10 घंटे पढ़ाई करते थे। इसके बाद खुद को रिफ्रेश करने के लिए जुनैद…
खेल और जिम का भी सहारा लेते, कभी-कभार जुनैद मूवी देखने भी जाते थे।…

जुनैद के मुताबिक, सिविल सर्विसेज की तैयारी की शुरुआत में आठ से 10 घंटे लगातार पढ़ाई करते बेसिक समझ में
आने के बाद तैयारी का समय घटकर चार घंटों तक सिमट गया। जुनैद का मानना है कि घंटों से पढ़ाई नहीं होती,बस जो भी पढ़ें, ध्यान लगाकर तैयारी करें तो सफलता जरूर मिलेगी।…

सिविल सर्विसेज की चार बार परीक्षा देने के बाद पांचवी बार में परीक्षा में सफलता हासिल हुई…

इसी के चलते पांचवीं बार फिर से परीक्षा दी और सिविल सर्विसेज 2018 की परीक्षा में ऑल ओवर इंडिया में तीसरा स्थान (थर्ड रैंक) मिला था। पांचवीं बार में जुनैद UPSC Topper बन गए और लोगों के होश उड़ा दिए। …
जुनैद ने UPSC की तैयारी करने वाले छात्रों के लिए जुनैद ने कहा कि कभी भी असफलता से घबराएं नहीं और कड़ी मेहनत और एकाग्रता के दम पर अपना लक्ष्य प्राप्त करें। एक दिन सफलता जरूर मिलेगी।…

Spread the love