comscore

कोरोना से हो रही मौत पर बीजेपी मंत्री का बेतुका बयान, बोले- जिनकी उम्र हो जाती है, उन्हें मरना ही है

भोपाल 15 अप्रैल 2021. मध्य प्रदेश के एक मंत्री ने अपने ताजा बयान में बताया कि कोरोना से मरनेवालों को कोई नहीं रोक सकता है। दरअसल, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के मंत्री प्रेम सिंह पटेल ने एक पत्रकार द्वारा पूछे गए प्रश्न के जवाब में यह बयान दिया। साथ ही उन्होंने कहा कि कोरोना से बचने के लिए सभी लोगों को सहयोग करना होगा। इसके बचाव के लिए चारों विधानसभा में सभी से बातचीत की गई है। साथ ही लोगों को कहा कि मास्क पहने और सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखे। डॉक्टरों से इलाज कराएं सभी जगह व्यवस्थाएं की गई है।

मंत्री प्रेम सिंह पटेल ने विवादित बयान दिया है। कोरोना से बढ़ती मौतों के सवाल पर प्रेम सिंह पटेल ने कहा, ‘इन मौतों को कोई रोक नहीं सकता। हर कोई कोरोना से बचाव के लिए सहयोग की अपील कर रहा है।’ यही नहीं प्रेम सिंह पटेल ने कहा कि आपका कहना है कि हर दिन बहुत से लोगों की मौत हो रही है। यदि लोग बुजुर्ग हो जाते हैं तो मरना भी पड़ता है। इस तरह प्रेम सिंह पटेल ने कोरोना से होने वाली मौतों को बढ़ती हुई उम्र से जोड़ा। इसके साथ ही कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर भी एक तरह से उन्होंने साफ कर दिया कि सरकार भी कुछ कहने की स्थिति में नहीं है कि यह संकट कब खत्म होगा।

इस बीच शिवपुरी के जिला अस्पताल में एक कोविड मरीज की ऑक्सीजन सपोर्ट हटाए जाने से मौत का मामला सामने आया है। इसे लेकर अस्पताल प्रशासन की काफी आलोचना की जा रही है। घटना के सामने आने पर सीएमएचओ ने कहा, ‘मृतक डायलिसिस के मरीज थे और हिमोग्लोबिन लेवल कम था। हम परिवार की ओर से लगाए गए आरोपों की जांच के लिए सीसीटीवी फुटेज को चेक करेंगे।’ बता दें कि मीडिया में सीसीटीवी फुटेज वायरल हो हो रही है, जिसमें एक लड़का ऑक्सीजन सपोर्ट हटाकर ले जाता दिख रहा है।

बता दें कि कई मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया था कि मध्य प्रदेश में कोरोना से मौतों का आंकड़ा काफी अधिक है, लेकिन प्रदेश सरकार इसे कम करके बता रही है। कई जिलों में श्मशान घाटों पर कोरोना से मरने वालों के अंतिम संस्कार की कतारों का हवाला देते हुए ऐसे दावे किए गए हैं। हालांकि प्रदेश सरकार का कहना है कि हमारी ओर से पूरा आंकड़ा दिया जा रहा है। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने खुद कहा था कि सरकार पूरी अपडेट दे रही है और संदिग्धों का भी कोरोना प्रोटोकॉल के तहत ही अंतिम संस्कार किया जा रहा है।

Spread the love