कोरोना में कुंवारों की टेंशन : शादी का मुहूर्त ही नहीं, दिसंबर तक शादी के सिर्फ गिनती के 7 शुभ दिन , फिर 18 अप्रैल 2021 तक करना होगा इंतजार

 रायपुर 28 सितंबर 2020। कोरोना ने सिर्फ मरीजों की ही परेशानी नहीं बढ़ायी है, बल्कि कुंआरों को भी टेंशन में डाल दिया है। एक तो कोरोना की वजह से शादी की जश्न पर ग्रहण पहले से लगा हुआ है, ऊपर से अब शादी की मुहूर्त भी बेहद कम है। ऐसे में संभावित दुल्हे-दुल्हन को शहनाई के लिए लंबा इंतजार करना पड़ सकता है। पंडितों के मुताबिक इस साल सिर्फ 7 दिन ही मुहूर्त हैं, अगर इस मुहूर्त में शादी नहीं हुई तो फिर चार से पांच महीने से और इंतजार करना पड़ सकता है।

पंडितों के अनुसार नवंबर में 3 दिन और दिसंबर में सिर्फ 4 दिन शुभ मुहूर्त है। यानी इन दो महीनों में केवल 7 दिन शादियां हो सकती हैं। जिस समय सबसे अधिक शादियों का मुहूर्त हुआ करता था, उसी महीने में 15 दिसंबर से 15 अप्रैल के बीच शुभ मुहूर्त नहीं बन रहा है। पंडितों का कहना है कि इन्हीं महीनों में धनु संक्रांति से लेकर गुरु और शुक्र जैसे ग्रह को अस्त हो रहे है। इसलिए मांगलिक कार्यों के लिए मुहूर्त का इंतजार करना होगा।

दरअसल इस साल अप्रैल से जून से महीने में जब ग्रामीण क्षेत्रों में शादी विवाह, उपनयन संस्कार का पीक सीजन होता है, उस समय भी लोग मांगलिक कार्य नहीं कर पाए। अब अनलॉक जैसी स्थितियां बनी तो शुभ मुहूर्त ही नहीं है। दिवाली के बाद 25 नवंबर को देवउठनी एकादशी है। इसी तिथि पर भगवान शालिग्राम और माता तुलसी का विवाह पूजन के साथ शुभ मुहूर्त प्रारंभ होता है। 15 दिसंबर को रात 9.31 बजे सूर्य का धनु राशि में प्रवेश होने से धनुर्मास प्रारंभ हो जाएगा, जो 14 जनवरी तक रहेगा। इसलिए मुहूर्त नहीं है। इसके बाद 17 जनवरी से 12 फरवरी तक गुरु ग्रह और 16 फरवरी से 18 अप्रैल तक शुक्र ग्रह अस्त रहेंगा, जो मांगलिक कार्यों के लिए विशेष माने गए हैं। इसलिए अगले साल 2021 में नवरात्रि पर्व के बाद शुभ मुहूर्त आरंभ होगा।

इन तारीखों पर शुभ मुहूर्त
नवंबर में तीन दिन 25, 27 और 30 तरीख और दिसंबर में चार दिन 7, 9, 10 और 11 तारीख को शुभ मुहूर्त है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.