8 IAS अफसरों को सुपरशीड कर निरंजन आर्य बनें राजस्थान के चीफ सिकरेट्री, दिल्ली से सिग्नल मिलने के बाद भी राजीव स्वरूप के एक्सटेंशन का आदेश नहीं आया, रात ढाई बजे निकला सीएस का आर्डर

NPG.NEWS
रायपुर /जयपुर, 1 नवंबर 2020। राजस्थान के चीफ सिकरेट्री राजीव स्वरूप को आखिरकार एक्सटेंशन नहीं मिल पाया। प्रधानमंत्री कार्यालय से सिग्नल मिलने के बाद भी उनका आदेश जारी नहीं हो सका। राजस्थान सरकार शनिवार दिन भर पीएमओ के आदेश की प्रतीक्षा करती रही। थक-हार कर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रात ढाई बजे 89 बैच के आईएएस निरंजन आर्य को मुख्य सचिव अपाइंट कर दिया।
बताते हैं, दिल्ली से सिग्नल मिलने के बाद राजस्थान सरकार राजीव स्वरूप के एक्सटेंशन को लेकर बिल्कुल अश्वस्त थी। खुद राजस्थान के सीनियर अधिकारियों ने मीडिया को बता दिया था कि शाम तक दिल्ली से एक्सटेंशन का आदेश आ जाएगा। इस आधार पर देश भर की मीडिया में ये खबर चल गई कि राजस्थान के सीएस को एक्सटेशन मिल गया है। लेकिन, ऐन वक्त पर मामला गड़बड़ा गया। राजस्थान सरकार के सीनियर अफसरों का कहना है कि सरकार को भी पूरा भरोसा था कि पीएमओ से आदेश आ रहा है। बताते हैं, सीएम सचिवालय ने ही सीएस राजीव स्वरूप को बताया था कि पीएमओ से एक्सटेंशन मिलने की खबर आ गई है। इसके बाद सीएस को बधाइयां मिलनी शुरू हो गई थी।

ये 8 आईएएस हुए सुपरशीड

निरंजन आर्य अनुसूचित जाति से आते हैं। समझा जाता है, राजस्थान सरकार ने वोट बैंक को देखते आठ आईएएस को ओवरलुक करते हुए आर्य के नाम पर देर रात मुहर लगा दी। आर्य से वरिष्ठ सचिवालय में तैनात आईएएस राजेश्वर सिंह, वीनू गुप्ता और सुबोध अग्रवाल को सचिवालय से बाहर भेज दिया गया है। जबकि वरिष्ठ आईएएस अधिकारी रविशंकर श्रीवास्तव, गिरिराज सिंह, पीके गोयल सचिवालय से बाहर तैनात हैं। वहीं, उषा शर्मा और नीलकमल दरबारी दिल्ली में पदस्थापित हैं। पिछली वसुंधरा सरकार के कार्यकाल में निरंजन कुमार आर्य वैदिक कम महत्व वाले विभागों में तैनात रहे थे।
अमिताभ जैन के बैचमेट
राजस्थान के नए चीफ सिकरेट्री निरंजन आर्य छत्तीसगढ़ के एसीएस अमिताभ जैन के बैचमेट हैं। अमिताभ भी 89 बैच के आईएएस हैं। सीएस आरपी मंडल के रिटायरमेंट के बाद सीनियरिटी में दूसरे नम्बर पर अमिताभ आते हैं। स्वाभाविक तौर पर अमिताभ सीएस के प्रबल दावेदार हैं।

Spread the love