रजिस्ट्री आफिस में हड़ताल से सरकार को करोड़ों के राजस्व का नुकसान, कई मांगों को लेकर अधिकारी, कर्मचारी आए सड़क पर, 16 से बेमुद्दत हड़ताल की चेतावनी

NPG.NEWS
रायपुर, 4 मार्च 2020। छत्तीसगढ़ में आज रजिस्ट्री आफिस में एक दिन की हड़ताल रही। इसके चलते राज्य के पंजीयन कार्यालयों में जमीन की रजिस्ट्री ठप रही। इससे सरकार के खजाने को 25 से 30 करोड़ रुपए के राजस्व का नुकसान हुआ। पिछले साल चार मार्च को रजिस्ट्री से सरकार के खजाने में 30 करोड़ आए थे।


सेटअप का रिवाइज और वेतनमान की मांग को लेकर रजिस्ट्री अधिकारी, कर्मचारी संघ ने आज एक दिन के लिए काम बंद हड़ताल कर दिया। इस दौरान एक भी रजिस्ट्री नहीं हुई। दूर-दूर से बड़ी संख्या में लोग रजिस्ट्री कार्यालय पहुंचे थे। मगर यहां आने के बाद पता चला कि आफिस में हड़ताल है।
प्रदेश भर से पहुंचे अधिकारियों, कर्मचारियों ने आज राजधानी के बूढ़ा तालाब धरनास्थल पर धरना दिया। संघ के सचिव वीरेंद्र श्रीवास ने कहा कि राज्य बनने के बाद दीगर विभागों के सेटअप में कई बार बदलाव किया जा चुका है। लेकिन, पंजीयन विभाग के सेटअप मे कोई चेंज नहीं हुआ। जबकि, वर्क लोड कई गुना बढ़ गया है। वीरेंद्र ने बताया कि कई राज्यों में डिप्टी रजिस्ट्रार और डिप्टी कलेक्टर का वेतन एक समान है। लेकिन, छत्तीसगढ़ में काफी अंतर है। उन्होंने बताया कि अपने पदीय दायित्व के निर्वहन के दौरान कई बार पुलिस सीधे एफआईआर दर्ज कर लेती है जबकि, पंजीयन विभाग का काम भी न्यायालय जैसा है।
वीरेंद्र ने कहा कि पंजीयन आफिस के अधिकारी, कर्मचारी काफी अनुशासनप्रिय हैं। इसलिए, पिछले 25 साल में कोई आंदोलन नहीं हुआ। लेकिन, अब मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। अगर सरकार की ओर से सार्थक पहल नहीं हुई तो पंजीयन विभाग के अधिकारी, कर्मचारी 16 मार्च से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे। रजिस्ट्री अधिकारी, कर्मचारी संघ ने मुख्यमंत्री के नाम एसडीएम को ज्ञापन सौंपा।

Spread the love