बिलासपुर पुलिस पर गंभीर आरोप, मामले का खातमे के लिए सब इंस्पेक्टर ने मांगा पैसा, एसपी से शिकायत हुई तो महिला को गिरफ्तार कर भेज दिया जेल

0 अकेली महिला के घर आधी रात धमक गई पुलिस,एसपी बोले, रकम मांगना गंभीर मामला, जांच होगी

बिलासपुर, 16 जनवरी 20202। आत्महत्या के लिए उत्प्रेरित करने वाले एक मामले को खतम करने के लिए पुलिस ने तीन लाख रुपए की मांग की। महिला ने जब एसपी से इसकी शिकायत की तो उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। महिला का आरोप है कि शिकायत के बाद आधी रात पुलिस उसके घर धमक गई थी। बिलासपुर के एसपी प्रशांत अग्रवाल ने कहा है कि केस के खातमे के लिए रकम की माग करना गंभीर कृत्य है, इसकी जांच की जाएगी।
प्रकरण 26 सितंबर 2019 का है। बेहद गंभीर अवस्था में जली महिला को अस्पताल दाखिल कराया गया था। महिला का नाम श्रीमती बेगम बाई था, जिसकी उपचार के दौरान मौत हो गई। पुलिस ने मामले में मर्ग क़ायम किया और मृतिका के मोहल्लेवासी और बेटी नंदिनी कौशिक और बहू से पूछताछ की, जिसमें सभी ने इसे आत्महत्या तो माना लेकिन कोई वजह नहीं बताई। पुलिस इस मर्ग का क्लोजर फाईल करने ही वाली थी, तभी घटना के क़रीब तीन महीने बाद 11 दिसंबर को मृतिका की बेटी नंदिनी एक सीडी के हवाले से दावा किया कि उसकी माँ को उसकी भाभी प्रताड़ित करती थी इस वजह से वह ख़ुदकुशी कर गई। बताते हैं, नंदनी ने एसपी को भी ज्ञापन सौंपकर भाभी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।
उधर, मृतका की बहू का आरोप है कि कल सरकंडा थाने की सब इंस्पेक्टर गायत्री सिनहा ने उसे थाने बुलाया। वहां मामले के खातमा करने के लिए तीन लाख रुपए की मांग की। कल शाम को इसकी शिकायत उसने एसपी से की। इसके बाद पुलिस आनन-फानन में मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार करने रात में उसके घर धमक गई। घर में वह अकेली थी, इसलिए उसने दरवाजा नहीं खोला। बताते हैं, पुलिस ने आज उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। लेकिन, सब इंस्पेक्टर द्वारा पैसे मांगने के आरोप पर कोई कार्रवाई नहीं की।
कप्तान प्रशांत अग्रवाल ने एनपीजी से कहा
“रक़म की माँग करना गंभीर है, मैंने इस संबंध में जाँच संस्थित कर दी है, सीएसपी इसकी जांच करेंगे। महिला के ख़लिफ़ पर्याप्त साक्ष्य थे तो उस पर कार्यवाही की गई है।”

Spread the love