कांग्रेस के वरिष्ठ नेता बूटा सिंह का निधन…8 बार लोकसभा सांसद रहे… पीएम मोदी, राहुल ने जताया शोक

नयी दिल्ली 2 जनवरी 2021. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री बूटा सिंह का शनिवार को निधन हो गया. वह लंबे समय से बीमार चल रहे थे. बूटा सिंह 86 साल के थे. वह बिहार के राज्यपाल भी रह चुके थे. बूटा सिंह राजस्थान से कई बार कांग्रेस के सांसद रहे. उन्होंने केंद्र में अलग-अलग सरकारों में कई पदें संभाली. वह गृह मंत्री, कृषि मंत्री, रेल मंत्री समेत कई अहम मंत्रालय के मंत्री रहे. उनके निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित कांग्रेस के बड़े नेताओं ने शोक प्रकट किया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया कि श्री बूटा सिंह जी एक अनुभवी प्रशासक थे, वे गरीबों और दलितों के कल्याण के साथ-साथ उनकी प्रभावी आवाज भी थे. उनके निधन से दुखी हूं. उनके परिवार और समर्थकों के प्रति मेरी संवेदना. बता दें कि बूटा सिंह को राजीव गांधी का काफी करीबी माना जाता था. उनकी सरकार में ही वे गृहमंत्री भी रहे.
बूटा सिंह के निधन पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि सरदार बूटा सिंह जी के देहांत से देश ने एक सच्चा जनसेवक और निष्ठावान नेता खो दिया है. उन्होंने अपना पूरा जीवन देश की सेवा और जनता की भलाई के लिए समर्पित कर दिया, जिसके लिए उन्हें सदैव याद रखा जायेगा. इस मुश्किल समय में उनके परिवारजनों को मेरी संवेदनाएं.
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट किया कि पूर्व केंद्रीय मंत्री, वरिष्ठ कांग्रेस नेता और राजस्थान के पूर्व सांसद श्री बूटा सिंह जी के निधन के बारे में जानने के बाद काफी दुख हुआ. इस कठिन समय में उनके परिवार के सदस्यों के प्रति मेरी हार्दिक संवेदना, ईश्वर उन्हें यह कष्ट सहने की शक्ति दे और उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे.

1977 में जनता पार्टी की लहर के चलते कांग्रेस बुरी तरह से हार गई थी। इसके बाद पार्टी विभाजित भी हो गई थी। तब बूटा सिंह ने इंदिरा गांधी की अगुआई वाली कांग्रेस के इकलौते राष्ट्रीय महासचिव के रूप में कड़ी मेहनत के बाद पार्टी को 1980 में फिर से सत्ता में लाने के लिए बड़ी भूमिका निभाई थी।

बूटा के परिवार में पत्नी, दो बेटे और एक बेटी हैं। 21 मार्च, 1934 को पंजाब के जालंधर के मुस्तफापुर गांव में जन्मे बूटा 8 बार लोकसभा के लिए चुने गए।

Spread the love