SBI की ऑनलाइन बैंकिंग सेवाएं ठप, ATM कर रहे काम …. ट्वीट कर एसबीआई ने कहा- जल्द सेवा सुचारू रूप से चालू हो जायेगी…

नई दिल्‍ली 13 अक्टूबर 2020।भारतीय स्टेट बैंक (SBI) की ऑनलाइन बैंकिंग सेवाएं तकनीकी समस्या की वजह से ठप हो गई हैं. खुद बैंक ने एक ट्वीट में इसकी जानकारी दी है. हालांकि एटीएम और पीओएस मशीनें प्रभावित नहीं हैं.बैंक ने ट्वीट में लिखा है कि हम अपने ग्राहकों से अनुरोध करते हैं कि वे हमारे साथ बनें रहें. जल्द ही सामान्य सेवा फिर से शुरू हो जाएगी.

एसबीआई ने ट्वीट कर कहा है कि उसकी योनो एसबीआई मोबाइल एप पर मेंटेनेंस वर्क किया जा रहा है। मेंटेनेंस के कारण यह एप 11 अक्‍टूबर से 13 अक्‍टूबर तक रात 12 बजे से सुबह 4 बजे तक उपयोग के लिए उपलब्‍ध नहीं रहेगी।एसबीआई ने कहा कि इस असुविधा के लिए हम अपने ग्राहकों से खेद प्रकट करते हैं और अपने उपभोक्‍ताओं से अनुरोध करते हैं कि वह अपने बैंकिंग जरूरतों को इस असुवधिा को देखते हुए ही नियोजित करें और असुविधा से बचने के लिए हमारी इंटरनेट बैंकिंग सेवा का उपयोग करें।

भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) अपने डिजिटल प्लेटफॉर्म योनो को अलग इकाई बनाने के बारे में सक्रियता के साथ विचार कर रहा है। बैंक के पूर्व चेयरमैन रजनीश कुमार ने यह बात सेवानिवृत्‍त होने से पहले कही थी। योनो यानी ‘यू आनली नीड वन एप’ स्टेट बैंक की एकीकृत बैंकिंग पलेटफॉर्म है।

कुमार ने बताया कि बातचीत अभी शुरुआती दौर में है, मूल्यांकन का काम अभी लंबित है। रजनीश कुमार ने योनो का मूल्यांकन 40 अरब डॉलर के आसपास होने का अनुमान व्‍यक्‍त किया है। एसबीआई ने योनो को तीन साल पहले शुरू किया था और अब इसके 2.60 करोड़ पंजीकृत यूजर्स हैं। इसमें रोजना 55 लाख लॉगइन होते हैं और 4,000 से अधिक व्यक्तिगत ऋण आवंटन और 16 हजार के करीब योनो कृषि एग्री गोल्ड लोन दिए जाते हैं।

स्टेट बैंक खुदरा भुगतान के लिए एक नई समग्र इकाई व्यवस्था के तहत अलग डिजिटल भुगतान कंपनी स्थापित करने पर भी विचार कर रहा है। रिजर्व बैंक ने इस साल अगस्त में एक अखिल भारतीय खुदरा भुगतान इकाई की अनुमति के लिये नियम कायदे जारी की थी। इसके लिए रिजर्व बैंक के पास आवेदन जमा कराने की अंतिम तिथि 26 फरवरी 2021 है। वर्तमान में देश में नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) एकमात्र खुदरा भुगतान इकाई है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.