नौकरशाहों से CM मांगे रिजल्ट

16 फरवरी 2020
सीएम भूपेश बघेल और सीएस आरपी मंडल अमेरिका में हैं तो ऐसा नहीं है कि यहां अफसरों के मजे होंगे। बल्कि, इस समय वे ज्यादा टेंशन में हैं। टेंशन की वजह है सीएम के 33 प्वाइंट्स। सेन फ्रांसिस्को की फ्लाइट पकड़ने से पहिले सीएम ने मंत्रालय के सिकरेट्रीज समेत कलेक्टरों से बिंदुवार 33 योजनाओं की प्रगति की रिपोर्ट मांगी है। छह लाइन के लेटर में सीएम ने लिखा है, हर हाल में 20 फरवरी की शाम तक सीएम सचिवालय में रिपोर्ट्स पहुंच जानी चाहिए। लेटर की भाषा से लगता है, रिजल्ट न देने वाले अफसरों की खैर नहीं। पता चला है, अमेरिका से लौटते ही मुख्यमंत्री रिव्यू शुरू कर देंगे। विधानसभा की कार्यवाहियों के दौरान भी विभाग वार समीक्षाएं चलेगी। बजट सत्र के बाद कलेक्टरों के ट्रांसफर में भी ये 33 प्वांट्स प्रमुख पैरामीटर होंगे। दरअसल, विधानसभा का बजट सत्र खतम-खतम होते सरकार का लगभग डेढ़ साल पूरा हो जाएगा। इसके बाद काम करने के लिए बचेंगे सिर्फ ढाई साल। जाहिर है, पांचवे साल में कोई काम होता नहीं। सरकार चुनावी मोड में आ जाती है। इसलिए, सरकार अब ट्वेंटी-20 के मोड में बैटिंग करना चाहती है। बहरहाल, सीएम जब अफसरों से रिजल्ट मांगेंगे तो उसका खौफ सिर चढ़कर बोलेगा ही। अफसर घबराए हुए हैं।

प्रसन्ना की प्रसन्नता

2004 बैच के आईएएस आर प्रसन्ना को सरकार ने लंबे समय तक लगभग बिना विभाग के रखा। लगभग बिना विभाग मतलब पुछल्ला सा विभाग, जिसका कोई वजूद न हो…सिर्फ नाम का। हालांकि, पिछले महीने के एंड में आईएएस के ट्रांसफर में सरकार ने उन्हें मेन स्ट्रीम में लाकर समाज कल्याण विभाग का सचिव बनाया। लेकिन, वे काम शुरू कर पाते कि उससे पहले एनजीओ घोटाले की सीबीआई जांच का ऐलान हो गया। मतबल गड़बड़झाला किया कोई और, जवाब प्रसन्ना दें। लगता है, प्रसन्ना की प्रसन्नता की किसी की नजर लग गई है।

दाउजी बन गिस साहब

आमतौर पर कुर्ता, पायजामा, जैकेट और पटका में दिखने वाले सीएम भूपेश बघेल इन दिनों अमेरिका में हैं। यूएस में टेम्परेचर इन दिनों माईनस में चल रहा। ऐसे में कुर्ता, पायजामा भला कहां काम आने वाला। इसलिए, कई मौकों पर उन्होंने वहां सूट भी पहनी। उनमें से कोट और टाई वाली फोटो खूब वायरल हो रही है। सोशल मीडिया में इस पर लोगों के दिलचस्प कमेंट्स आ रहे…कई फॉलोवर्स ने लिखा…अपन दाउजी अब साहब बन गिस।

विवाद का पटाक्षेप?

राजधानी के भवन और हाउस के बीच उपजे विवाद का अब लगता है पटाक्षेप हो जाएगा। पता चला है, कुशाभाउ पत्रकारिता विश्वविद्यालय के नए कुलपति के लिए नाम पर सहमति बन गई है। जो बीच का रास्ता निकला है, उसके अनुसार अब न जगदीश उपासने कुलपति बनेंगे और न ही दिल्ली के पत्रकार उर्मिलेश। उनके अलावा चार नाम और हैं पेनल में। इनमें से बलदेव शर्मा एक खास विचारधारा के माने जाते हैं। इसलिए, उनके नाम पर सहमति बनना संभव नहीं है। लिहाजा, मुकेश कुमार, लव कुमार मिश्रा या आशुतोष मिश्र में से किसी नाम का जल्द ऐलान हो जाए, तो अचरज नहीं।

केजरीवाल मॉडल-1

दिल्ली में केजरीवाल की पार्टी की धमाकेदार जीत से पहले छत्तीसगढ़ सरकार उनके मॉडल पर काम चालू कर दिया है। केजरीवाल की तरह भूपेश सरकार ने भी आम आदमी को टच करने वाले हेल्थ और स्कूल एजुकेशन पर अपना फोकस बढ़ाया है। आदिवासी इलाकों में सरकार का हॉट बाजार क्लीनिक हिट हो रहा है। दंतेवाड़ा और बीजापुर के उपचुनाव में इसका असर दिखा भी। अब शहरों में शहरी स्लम स्वास्थ्य केंद्र प्रारंभ करने की तैयारी है। इस बजट में इसका ऐलान हो जाएगा। स्लम स्वास्थ्य केंद्र सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों की तरह नहीं होगा, जिसमें डाक्टर ही नहीं होते। इसे आउटसोर्स करने पर विचार किया जा रहा है ताकि, हंड्रेड परसेंट रिजल्ट मिले। सीएम के रणनीतिकारों का मानना है, सूबे के ऐसे वर्ग इस योजना से लाभान्वित होंगे, जो महंगे प्रायवेट अस्पतालों में नहीं जा पाते। उन्हें अपने मुहल्ले में पैथोलॉजी के जनरल टेस्ट के साथ ही डाक्टरों का परामर्श के साथ ही मुफ्त में दवाइयां मिल जाएंगी। वास्तव में, सरकार का ये बड़ा काम होगा।

केजरीवाल मॉडल-2

केजरीवाल के मॉडल नम्बर दो को अंजाम तक पहुंचाने का जिम्मा सीएम भूपेश बघेल ने प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा डा0 आलोक शुक्ला को दिया है। रिजल्ट देने वाले आईएएस माने जाने वाले शुक्ला ने इस पर काम शुरू कर दिया है। इसी सत्र से राजधानी के दानी, सप्रे और आरडी पाण्डेय स्कूल में पहली से बारहवीं तक अंग्रेजी मीडियम में पढ़ाई चालू हो जाएगी। सरकार ने इन स्कूलों में अंग्रेजी टीचरों की भरती में फ्री हैंड दे दिया है। सीएम ने कहा है कि क्वालिटी में कोई समझौता नहीं होना चाहिए। अंग्रेजी टीचरों की भर्ती में नो एप्रोच…हमारी भी नहीं सुनना। गरीबों के बच्चों के लिए जिलों में एक-एक अंग्रेजी मीडियम स्कूल एक ट्रेलर है, प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा को सुधारने के लिए एक मेगा प्रोजेक्ट पर काम कर रहे, इनमें से कई का असर आगामी सत्र से दिखने लगेगा। दरअसल, सरकार को भी मालूम है कि चावल, गेहूं, बोनस और समर्थन मूल्य कार्ड बार-बार नहीं चल सकता। ठोस काम करना ही होगा।

पोस्टिंग पर सस्पेंस

छत्तीसगढ़ के सबसे सीनियर आईएएस और राज्य योजना आयोग के वाइस चेयरमैन अजय सिंह 28 फरवरी को रिटायर हो जाएंगे। उनकी सेवानिवृत्ति के दिन जैसे-जैसे नजदीक आते जा रहे हैं, ब्यूरोक्रेसी में उत्सुकता बढती जा रही है कि अजय सिंह को पोस्ट रिटायरमेंट पोस्टिंग मिलेगी या नहीं। यद्यपि, 31 अक्टूबर 2019 को बिलासपुर राजस्व बोर्ड चेयरमैन से उन्हें राज्य योजना आयोग का वाइस चेयरमैन बनाया गया था, तब लोग मानकर चल रहे थे कि फरवरी में रिटायरमेंट के बाद सरकार उन्हें योजना आयोग में संविदा पर उसी पद पर कंटीन्यू कर देगी। किन्तु, छत्तीसगढ़ में मौसम और अफसरों की पोस्टिंग का कोई भरोसा नहीं। देख ही रहे हैं….फरवरी में झमाझम बारिश हो जा रही है…..परफारमेंस ठीक न होने पर महीने भर में अफसरों की छुट्टी भी। अजय सिंह चीफ सिकरेट्री रहने के दौरान विधानसभा चुनाव की तारीख का ऐलान होने से दो रोज पहिले समाज कल्याण घोटाले की जांच रिपोर्ट हाईकोर्ट में जमा कर आए थे। इसका खुलासा अभी हुआ है। पोस्ट रिटायरमेंट पोस्टिंग को लेकर अचानक जो संशय उपजा है, उसके पीछे समाज कल्याण विभाग की जांच रिपोर्ट भी हो सकती है।

शराब और दूरसंचार अधिकारी

शराब दुकानों के अगल-बगल बिकने वाले चखना केंद्रों को आबकरी विभाग सिस्टमेटिक करने जा रहा है। अब एक शराब दुकान, एक चखना बिक्री केंद्र होगा। इसके लिए ऑनलाइन टेंडर करने की तैयारी की जा रही है। चखना केंद्र के लिए ऑनलाइन टेंडर करने वाला छत्तीसगढ़ संभवतः देश का पहला राज्य होगा। असल में, आबकारी महकमे में एक टेलीफोन अधिकारी डेपुटेशन पर एमडी बन गए हैं। चल उनकी खूब रही है। ऐसे में, सरकार को देखना चाहिए दूरसंचार अधिकारी कुछ और चीजों को भी ऑनलाइन न करने की योजना न बना दें।

बियर प्रेमियों को सौगात

मई, जून की भीषण गरमी में चिल्ड बियर के लिए बियर प्रेमियों को काफी पापड़ बेलने पड़ते हैं। दुकानों में कभी स्टॉक खतम हो जाता है तो कभी मिला भी तो गरम। मगर अब बियर प्रेमियों के लिए गुड न्यूज है…सूबे में अब बियर की किल्लत नहीं होगी। आबकारी महकमा राज्य में तीन बियर फैक्ट्री खोलने की तैयारी कर रहा है।

अंत में दो सवाल आपसे

1. रायपुर जिले के एक विधायक का नाम बताइये, जो आरगेनाइज ढंग से वसूली के लिए चर्चित होते जा रहे हैं?
2. एक नेता का नाम बताइये, जो करोड़ों का शादी महल खरीदने वाला है?

Spread the love