RTI एक्टिविस्ट कुणाल शुक्ला एवं बीजेपी नेता गौरीशंकर पर FIR दर्ज…. वारंटी को थाने से छोड़ने महिला TI को धमकाने का आरोप, TI ने दर्ज कराया FIR

रायपुर,9 फ़रवरी 2020। RTI एक्टिविस्ट व कुशाभाउ ठाकरे पत्रकारिता विश्वविद्यालय में कबीर शोध पीठ के अध्यक्ष कुणाल शुक्ला और भाजपा नेता गौरीशंकर श्रीवास के खिलाफ राजधानी पुलिस ने FIR दर्ज किया है। राजधानी के डीडी नगर टीआई मंजूलता राठौड़ की शिकायत पर ये मामला दर्ज हुआ है।  TI मंजूलता राठौड़ ने रिपोर्ट में उल्लेख किया है कि 6 फ़रवरी को रात साढ़े नौ बजे थाने आकर गिरफ़्तारी वारंट को छोड़े जाने का दबाव बनाकर नौकरी खा जाने व छवि ख़राब करने की धमकी दे रहे थे।
FIR में दर्ज किया गया है –

“मेरे चैंबर के टेबल को ठोककर बोले कि वारंटी को छोड़ दीजिए नहीं तो आपको नौकरी से हटवाकर आपकी नौकरी खा जाएँगे, मुझ पर हमला करने पर आमादा हो गए।हम क्या करेंगे आप जानती नहीं हो”

एसएसपी आरिफ शेख ने इस प्रकरण पर कहा कि

“बहुत गंभीर अपराध है, महिला टीआई को उसके चैंबर में घुसकर धमकाया गया, वो भी एक वारंटी को छोड़ने के लिए, उसे धमकी दी गयी, कहा गया, उसकी नौकरी ले लेंगे। आरटीआई एक्टिविस्ट हूं, मुझे जानते नहीं हो, ये गंभीर प्रकरण है, इसे लेकर मामला दर्ज कराया गया है, जो मामला हुआ है, उसके आधार पर आगे कार्रवाई की जायेगी”

TI मंजूलता राठौड़ ने संज्ञेय अपराध के इस ब्यौरे में घटनाक्रम 6 फ़रवरी का बताया है लेकिन उसकी रिपोर्ट TI मंजूलता राठौड़ ने 8 फ़रवरी को शाम चार बजे दर्ज की है।प्रकरण में धारा 353,189,और 506 का अपराध दर्ज किया गया है।

भाजपा प्रवक्ता गौरीशंकर श्रीवास ने पक्ष दिया है। गौरीशंकर श्रीवास ने कहा

“मैं FIR के ब्यौरे और धारा को देख कर हैरान हूँ, थाने में जाकर यह पूछना कि कोई क्यों लाया गया है.. यह अपराध कैसे बन गया है। “यदि यह काल्पनिक घटना हुई थी तो FIR करने में दो दिन लग गए वो भी टीआई को ! प्रशासन बदलापुर करने के फेर में कुछ भी कर रहा है, धन्यवाद देता हूँ.. फ़र्ज़ी FIR से नहीं डरते।लड़ेंगे”

इधर मामले में मुख्य अभियुक्त बनाए गए कुणाल शुक्ला ने इस मामले को रायपुर पुलिस की खीज बताया है, उन्होंने मानवाधिकार आयोग को की गई शिकायत का हवाला देते हुए कहा –

“रिपोर्ट हैरान करती है, ऐसा कुछ हुआ ही नहीं है। मैंने रायपुर पुलिस के ख़िलाफ़ मानवाधिकार आयोग को शिकायत की है,रायपुर पुलिस को इस मसले पर जवाब देना है, वह दे नहीं पा रही है। यह पुलिस की खीज है.. पहले भी फ़र्ज़ी FIR पर लड़े हैं इस पर भी लड़ेंगे”

वहीं इस पूरे मामले में डीडी नगर थाना प्रभारी मंजू लता राठौर ने कहा.. ये बेहद शर्मनाक घटना है, सामाजिक कार्यकर्ता कुणाल शुक्ला और बीजेपी नेता गौरी शंकर श्रीवास के द्वारा थाने में आकर वारन्टी बदमाश को छुड़ाने के लिए मुझे धमकी दी गई थी, जिसके खिलाफ मैने पुलिस के उच्च अधिकारियों से शिकायत की थी। 8 फरवरी की रात इस मामले में डीडी नगर थाने में धमकी देने वालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करवाई गई है। 

Spread the love