EMI को लेकर RBI का बड़ा फैसला…रेपो रेट में की 40 बेसिस प्वाइंट्स की कटौती….किस्त पर यह छूट भी…

नई दिल्ली 22 मई 2020 कोरोना के कारण आए आर्थिक संकट को दूर करने की कोशिश की जा रही है. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने शुक्रवार को रेपो रेट में 40 बेसिस पॉइंट कटौती का ऐलान किया. अब रेपो रेट को 4.40 फीसदी से घटाकर 4 फीसदी कर दिया गया है. हालांकि, रिवर्स रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं किया गया है.

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा कि एमपीसी ने रेपो रेट में 0.40 फीसदी की कटौती का ऐलान किया है. अब रेपो रेट को 4 फीसदी कर दी गई है. इसका असर आपके ईएमआई पर हो सकता है. आपकी ईएमआई कम हो सकती है.

दरअसल आरबीआई को यह निर्णय इसलिए करना पड़ा कि लॉकडाउन के जारी रहने से लोगों की आय का फ्लो ​फिर से सुचारू नहीं हो पाया है। लोग ईएमआई मॉरेटोरियम की मौजूदा 31 मई तक की अवधि के खत्म होने के बाद मौजूदा परिस्थिति में अपना कर्ज चुकाने में सक्षम नहीं होंगे। इसलिए मॉरेटोरियम को और तीन माह तक बढ़ाना पड़ा। यह कर्ज लेने वालों और बैंकों दोनों के लिए इस मुश्किल वक्त में मददगार रहेगा।

27 मार्च को घोषित किया था विकल्प

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने 27 मार्च को बैंकों व वित्तीय संस्थानों को 1 मार्च 2020 तक बकाया सभी टर्म लोन्स लेने वालों को EMI के भुगतान पर 3 माह का मोरेटोरियम उपलब्ध कराने को कहा था। इस विकल्प में ग्राहक मार्च, अप्रैल और मई माह की अपनी EMI चाहें तो होल्ड कर सकते हैं।  हालांकि EMI स्थगन के इन तीन महीनों की अवधि के दौरान ब्याज लगता रहेगा, जो बाद में एक्स्ट्रा EMI के तौर पर देना होगा। जो ग्राहक अपनी EMI होल्ड नहीं करना चाहते, उन्हें कुछ भी करने की जरूरत नहीं है। उनकी EMI वैसे ही कटती रहेगी, जैसे कट रही थी।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.