पार्किंग के नाम अवैध वसूली के आरोप को रायपुर एयरपोर्ट आथरिटी ने नकारा…. डायरेक्टर बोले- “शुल्क व शर्तें हम नहीं तय करते, हम सिर्फ उसका इम्प्लीमेंट कराते हैं”….. अवैध वसूली नहीं, नये नियम के बाद तो हर महीने 6 लाख की हानि हो रही है एयरपोर्ट को

रायपुर 7 फरवरी 2020। रायपुर एयरपोर्ट पार्किंग में भ्रष्टाचार की शिकायत को रायपुर एयरपोर्ट आथरिटी ने सिरे से नकारा है। 30 लाख रुपये की अवैध वसूली की शिकायत केंद्रीय विमानन मंत्री से की गयी थी। इस मामले में रायपुर एयरपोर्ट आथरिटी के डायरेक्टर राकेश सहाय ने कहा कि पार्किंग की व्यवस्था और शुल्क केंद्रीय निर्देशों के अनुरूप होता है, सेंट्रल के निर्देशों को सिर्फ लोकल बॉडी एजेक्यूट करती है। उन्होंने निशुल्क पार्किंग के नाम पर 20 रूपये की वसूली किये जाने के आरोपों को भी गलत बताया।

सहाय ने NPG से बातचीत में कहा कि

“पार्किंग शुल्क व शर्त दिल्ली से तय होता है, जहां तक 20 रुपये वसूली का सवाल है, तो मैं ये स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि ये नियम के अनुरूप ही लिया जा रहा है। एयरपोर्ट बिल्डिंग के सामने प्राइवेट गाड़ी से आने वाले पैसेंजर्स के लिए 4 मिनट का फ्री टाइम तय किया गया है, वो अभी भी जारी है, लेकिन चार मिनट से ज्यादा होने पर फिर पेनाल्टी का प्रावधान है। पेनाल्टी की रकम भी दिल्ली से ही तय किया गया है, लेकिन अगर आपकी प्राइवेट गाड़ी सीधे पार्किंग में आती है तो 20 रुपये आधे घंटे के लिए देना होगा, जबकि ये रकम पूर्व में काफी ज्यादा हुआ करती थी। 30 लाख की वसूली की जहां तक बात है, ये स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि हर महीने 10 लाख रुपये एयरपोर्ट आथरिटी की इनकम होती थी, लेकिन इस नये शुल्क के बाद अब हर महीने 6 लाख का नुकसान हो रहा है, चार लाख रुपये ही मिल पा रहा है”

आपको बता दें कि सामाजिक कार्यकर्ता ब्यास मुनि द्विवेदी ने कल इस मामले में केंद्रीय विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी को पत्र लिखकर पार्किंग में अवैध वसूली की शिकायत के साथ-साथ 30 लाख की गड़बड़ी की शिकायत की थी।

 

Spread the love