आलू-प्याज की कीमतें घटेगी : अफगान का प्याज, भूटान का आलू दिवाली के पहले पहुंचेगा….कीमतों पर लगाम लगाने सरकार का बड़ा फैसला… आधी हो जायेगी कीमत

नयी दिल्ली 30 अक्टूबर 2020। त्योहारी सीजन में आलू व प्याज जैसी बेसिक सब्जियों की महंगाई पर काबू पाने के लिए सरकार ने आयात की अनुमति दे दी है। अफगानिस्तान से प्याज और निकट पड़ोसी भूटान से आलू आयात किया जा रहा है। केंद्रीय उपभोक्ता मामले व खाद्य मंत्री पीयूष गोयल ने कहा आलू व प्याज की यह खेप हर हाल में दिवाली से पहले पहुंच जाएंगी।उपभोक्ता मामलों के मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को कहा कि आलू के खुदरा मूल्य पर लगाम लगाने के लिये 10 लाख टन इस सब्जी का आयात किया जा रहा है.

इसमें से करीब 30,000 टन आलू भूटान से अगले कुछ दिनों में आ जाएगा. उन्होंने यह बात ऐसे समय कही है जब आलू की खुदरा कीमत देश में कुछ जगहों पर 60 रुपये किलो से ऊपर तक पहुंच गयी है. गोयल ने बताया कि 7000 टन प्याज की पहली खेप पहुंच चुकी है, जबकि 25 हजार टन की दूसरी खेप अफगानिस्तान से जल्दी ही पहुंचने वाली है।

उपभोक्ता मामलों के मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि आलू की घरेलू आपूर्ति बढ़ाने और कीमतों को काबू में लाने के लिए भूटान से 30,000 टन आलू का आयात किया जा रहा है। वहीं 7,000 टन प्याज का आयात किया जा चुका है, दिवाली से पहले इसकी 25,000 टन खेप और आने की संभावना है। पीयूष गोयल ने कहा कि हमने हाल ही में जो कदम उठाए उसके कारण पिछले एक सप्ताह से प्याज की कीमत स्थिर है। अभी औसत मूल्य 65 रुपये प्रति किलोग्राम पर बना हुआ है। हमने 14 सितंबर को ही प्याज के निर्यात पर बैन लगाने का फैसला किया था। 21 अक्टूबर से प्याज आयात के नियमों को भी आसान किया गया है।

Spread the love