सभी मंत्रियों का इस्तीफा, मध्यप्रदेश में राजनीतिक संकट गहराया, राज्यपाल होली की छुट्टी रद्द कर कल सुबह लौट रहे भोपाल

रायपुर,9 मार्च 2020। मध्यप्रदेश में सियासी तूफ़ान थमने का नाम नहीं ले रहा है। लगातार उपेक्षा को देखते हुए श्रीमंत याने ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक जिनमें मंत्री और विधायक शामिल हैं, अचानक बैंगलोर और दिल्ली रवाना हो गए। मीडिया रिपोर्ट यह दावा करती है कि इनमें से किसी से भी कोई संपर्क नहीं हो पा रहा है।
दिल्ली से लौटे मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कैबिनेट की बैठक बुलाई थी, जिसमें सभी मंत्रियों से इस्तीफ़ा ले लिया गया है। क़यास हैं कि असंतुष्ट विधायकों को साधने की क़वायद के तहत मंत्रित्व पुनर्गठन किया जाना है और इस्तीफ़े उसी की कड़ी हैं।
वहीं श्रीमंत ज्योतिरादित्य सिंधिया दिल्ली में है, उन्हें लेकर ख़बरे हैं कि उन्होंने देर शाम सचिन पायलट से मुलाक़ात की है।
सिंधिया ख़ेमे के कुल सत्रह विधायक अचानक नदारद हो गए हैं इनमें मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, महेंद्र सिंह सिसोदिया, तुलसी सिलावट, इमरती देवी, गोविंद सिंह राजपूत और प्रभुराम चौधरी शामिल हैं। साथ ही राजवर्धन सिंह, ओपीएस भदौरिया, जसवंत जाटव, बिजेंद्र यादव, जसपाल जज्जी, रणवीर जाटव, कमलेश जाटव, रक्षा सिरोनिया, मुन्ना लाल गोयल, रघुराज कंषाना और सुरेश धाकड़ से भी कोई संपर्क नहीं हो पा रहा है।
कल भाजपा विधायक दल की बैठक आहूत की गई है, जिसमें शिवराज सिंह विधायक दल के नेता बनाए जा सकते हैं।
सियासी उथल-पुथल के बीच राज्यपाल लालजी टंडन ने अपनी छुट्टियाँ निरस्त कर दी हैं और वे अब से कुछ देर बाद भोपाल पहुँच जायेंगे।

Spread the love