comscore

PM मोदी का संदेश – राम से मर्यादा और रमज़ान से अनुशासन.. कोरोना से लड़ाई में दोनों की अहम जरुरत.. दवाई भी कड़ाई भी का दिया मंत्र.. पढ़िये ख़ास बातें..

नई दिल्ली,20 अप्रैल 2021। कोरोना संक्रमण से जूझते देश को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सलाम किया है। प्रधानमंत्री मोदी के क़रीब सोलह मिनिट के संबोधन में पीएम मोदी ने रामनवमी पर राम की मर्यादा की सीख और रमज़ान से अनुशासन के सबक की याद दिलाते हुए देश से कहा
“कोरोना से लड़ाई में कोरोना से बचने का जो अनुशासन है, जो मर्यादा है उसका पालन करिए”
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा
“राज्यों से अनुरोध है लॉकडाउन को अंतिम विकल्प के रुप में इस्तेमाल करें.. लॉकडाउन से बचें”
पीएम मोदी ने आगे कहा
“हमें देश की अर्थव्यवस्था की सेहत और देश की सेहत का ध्यान रखना है”
पीएम मोदी ने स्वच्छता अभियान का ज़िक्र करते हुए दो आह्वान किए, एक युवाओं से और एक बालकों से। बालकों को उन्होंने बाल मित्र का संबोधन दिया । पीएम मोदी ने कहा
“युवा समितियाँ बनाए और कोविड अनुशासन बनाने में सहयोग करें, बाल मित्र घर में ऐसा माहौल बनाए कि बिना काम बिना कारण घर से बाहर लोग ना निकलें”
PM मोदी ने कहा
“यदि ऐसा हुआ तो ना लॉकडाउन लगेगा ना कंटेनमेंट की जरुरत पड़ेगी और कर्फ़्यू का तो सवाल ही नही है”
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की ओर से उन परिवारों को संबल दिया जिन्होंने अपने परिजनों को खोया है । प्रधानमंत्री मोदी के शब्द थे
“जो पीड़ा आप सह रहे हैं उसका मुझे ऐहसास है.. जिन्होंने अपनों को खोया मैं उनके परिवार के सदस्य के रुप में उनके साथ शामिल हूँ”
प्रधानमंत्री मोदी ने सभी चिकित्सकों पैरामेडिकल स्टाफ़ सफ़ाई कर्मी एबुंलेस कर्मी का पद नाम लिया, उन्होंने पुलिसकर्मियों को याद किया और कहा
“ पहली वेव में अपना जीवन दांव पर लगाकर जान बचाई और इस बार फिर जूटे हैं”
प्रधानमंत्री मोदी ने संस्कृत के श्लोक “त्याज्यं ना धैर्यम” का संदर्भ देते हुए कहा –
“कठिन से कठिन समय में धैर्य नहीं खोना है.. सही निर्णय सही दिशा में प्रयास होगा तभी विजय मिलेगी”
PM मोदी ने माना कि यह संकट पिछली बार से ज़्यादा है लेकिन उन्होंने देश को बताया
“देश में जीवन बचाने सभी का प्रयास है, आर्थिक गतिविधि और आजीविका कम से कम प्रभावित हो प्रयास भी यही है..पिछले साल कोरोना को लेकर हमारे पास कोई ढाँचा नहीं था.. लेकिन आज हमारे पास कोरोना के ईलाज की विशेषज्ञता हासिल है।”
श्रमिकों के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा
“राज्य सरकारों से आग्रह है कि श्रमिकों का भरोसा जगाए रखें वे जहां हैं वहीं रहें, राज्य सरकारें उन्हे यह भरोसा जगाएँ कि उन्हें वैक्सीन भी यहीं लगेगा और रोज़गार भी मिलेगा”
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा
“बेहद मज़बूती और धैर्य से लड़ाई देश ने लड़ी है,अनुशासन और धैर्य के साथ कोरोना से लड़ते हुए देश यहाँ तक आया है.. जनभागीदारी से कोरोना को हराएँगे.. सभी के सेवाभाव को नमन”
प्रधानमंत्री मोदी ने देश से आग्रह किया कि सभी आगे आएँ और जरुरतमंद को मदद पहुँचाए। वैक्सीन को लेकर PM मोदी ने कहा
“टीम एफर्ट है जिसकी वजह से वैक्सीनेशन का काम तेज़ी से हो रहा है,जो वैक्सीन बनेगी उसका आधा राज्य सरकारों और अस्पतालों को मिलेगा..पहले की तरह अस्पतालों में वैक्सीन मुफ्त मिलते रहेगी.. एक मई के बाद से अठारह वर्ष से उपर के किसी भी व्यक्ति को वैक्सीनेट किया जा सकेगा”
PM मोदी ने राज्य सरकारों से कहा
“लॉकडाउन को अंतिम विकल्प के रुप में रखें.. माइक्रो कंटेनमेंट ज़ोन बनाएँ”

Spread the love