कलिंगा विश्वविद्यालय में नए विद्यार्थियों के स्वागत के लिए ‘‘फस्र्ट स्टेप -2020‘‘ का आयोजन

रायपुर 5 अक्टूबर 2020. कलिंगा विश्वविद्यालय में नए शैक्षणिक सत्र में प्रवेश लेने वाले विज्ञान विभाग में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों के स्वागत के इंडक्शन कार्यक्रम ‘‘फस्र्ट स्टेप – 2020‘‘ का आॅनलाईन आयोजन संपन्न हुआ। नए विद्यार्थियों के स्वागत के लिए आयोजित इंडक्शन कार्यक्रम के दौरान कलिंगा विश्वविद्यालय की शैक्षणिक गतिविधि, उपलब्ध सुविधाओं एवं उपलब्धियों की जानकारी प्रदान की गयी। इस आयोजन में नए विद्यार्थियों के स्वागत के साथ-साथ विभिन्न मनोरंजक प्रतियोगिता, क्वीज प्रतियोगिता, गीत नृत्य एवं सांस्कृतिक एवं रचनात्मक कार्यक्रमों का भी आयोजन किया गया।

‘‘कोरोना महामारी‘‘ प्रकोप के कारण शासन के निर्देशानुसार विश्वविद्यालय में पढ़ाई के साथ-साथ सभी कार्यक्रम आॅनलाईन किए जा रहे है। इसीलिए नए विद्यार्थियों के लिए स्वागत का कार्यक्रम ‘‘फस्र्ट स्टेप – 2020‘‘ का आॅनलाईन आयोजन संपन्न किया गया।

‘‘फस्र्ट स्टेप – 2020‘‘ के आॅनलाईन आयोजन के प्रथम चरण में कलिंगा विश्वविद्यालय के कुलपति डाँ. आर श्रीधर, महानिर्देशक डाँ. बैजू जाॅन, कुलसचिव डाँ संदीप गांधी, छात्र कल्याण अधिष्ठाता डाँ. आशा अंभईकर और अकादमिक मामले के प्रमुख राहुल मिश्रा की उपस्थिति में ज्ञान और विद्या की देवी माँ सरस्वती वंदना करने के पश्चात कार्यक्रम का शुभारंभ हुआ।

इस अवसर पर नए विद्यार्थियांे के स्वागत के लिए विश्वविद्यालय सभागार में वरिष्ठ छात्रा  डी. वसावी ने स्वागत गीत और मनमोहक नृत्य का लाइव परफार्मेंनस किया। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के कुलसचिव डाँ. संदीप गांधी ने नए विद्यार्थियों को स्वागत भाषण के माध्यम से कलिंगा विश्वविद्यालय के अब तक के स्वर्णिम सफर और उपब्धियों को बताते हुए कहा कि हमने बहुत कम समय में उच्च शिक्षा के क्षेत्र में संपूर्ण देश में अपनी पहचान दर्ज की है। उच्च शिक्षा के लिए इस विश्वविद्यालय का चयन किया है। हमें पूरा विश्वास हैं कि हम आपकी उम्मीदों पर खरा उतरेंगे।

कलिंगा विश्वविद्यालय के कुलपति डाँ. आर. श्रीधर ने नए विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि कलिंगा विश्वविद्यालय का उद्देश्य व्यावहारिक ज्ञान के साथ-साथ अनुसंधानपरक एवं मूल्य आधारित गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करना है। जिससे विद्यार्थी अपने सर्वोत्कृष्ट लक्ष्य को प्राप्त करे और एक जिम्मेदार नागरिक बनकर अपने देश और समाज में अपनी बहुमूल्य भूमिका निभा सके। हम वैश्विक मानदंड के अनुसार विद्यार्थियों को तैयार करने में यकीन रखते है। जिससे आप किसी भी नए परिवेश में स्वयं को ढाल सकें।

कलिंगा विश्वविद्यालय के महानिर्देशक डाँ. बैजू जाॅन ने कहा कि आत्मविश्वास के साथ सही दिशा का चयन करके हम प्रत्येक क्षेत्र में सफलता हासिल कर सकते हैं। आपको विश्वस्तरीय अनुभवी प्राध्यापकों की टीम, सर्वोत्कृष्ट अधोसंरचना और संसाधन और शोध आधारित शिक्षा देने के लिए प्रतिबद्ध हैं। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में छत्तीसगढ़ की मिस इंडिया (फेमिना) स्पंदना पाली उपस्थित थीं जिन्होंने अपने महत्वपूर्ण उद्बोधन से विद्यार्थियों को जीवन में आने वाली चुनौतियों मानदंडो प्रतिस्पर्धा माहौल का सामना कैसे करें इसके बारे में अपने विचार बच्चों के साथ साझा किया।

विज्ञान विभाग की विभागाध्यक्ष डाँ. शिल्पी श्रीवास्तव ने विश्वविद्यालय के अंतर्गत विज्ञान संकाय के अंतर्गत सभी पाठ्यक्रमों की उपयोगिता पर प्रकाश डालते हुए कहा कि- ‘‘आज विद्यार्थियों को पाठ्यक्रम आधारित पारंपरिक शिक्षा और व्यावहारिक ज्ञान के साथ-साथ अनुसंधानपरक ज्ञान प्राप्त करना बहुत आवश्यक है। कलिंगा विश्वविद्यालय अपने विद्यार्थियों में सीखने की प्रवृत्ति विकसित करता है। जिससे शिक्षा के उपरांत वह अपने उज्जवल भविष्य का निर्माण कर सकें।

स्वागत समारोह के अगले चरण में विश्वविद्यालय के प्राध्यापक डाँ. प्रतीक जगताप ने पावर प्वाइंट के मनमोहक प्रस्तुति के माध्यम से नए विद्यार्थियों को कलिंगा विश्वविद्यालय में उपलब्ध सुविधाओं के साथ-साथ यहाँ के प्रशासनिक और अकादमिक अधिकारियों का परिचय दिया एवं विश्वविद्यालय के मिशन, विजन, और रोडमैप के बारे में विस्तार से बतलाया। दिन भर चले इस कार्यक्रम को विभिन्न सत्रों में बांटा गया था। जिसमें संबंधित विभाग के प्राध्यापकों का परिचय, अकादमिक मामले के प्रमुख अधिकारी राहुल मिश्रा का सत्र, उपकुलसचिव कुमार श्वेताभ एवं विश्वविद्यालय समन्वयक गौसिया खातून और परीक्षा विभाग के  श्रीकांत सिंह का सत्र प्रमुख था। जिसमें विश्वविद्यालय की कार्यप्रणाली से विद्यार्थियों को अवगत कराया गया।

इसके पश्चात विद्यार्थियों के मनोरंजन और ज्ञानवर्धक के लिए आॅनलाईन क्वीज प्रतियोगिता, स्लोगन प्रतियोगिता, प्रेरणादायक वीडियों की प्रस्तुति, गायन एवं नृत्य प्रतियोगिता, टंग ट्विस्टर, हौजी जैसे अनेक मनोरंजक कार्यक्रम, संपन्न हुए।

कार्यक्रम का कुशल संचालन कपिल केलकर एवं डाॅ. विनीता दीवान ने किया, जिनका सहयोग  अविनाश कौर, हिमांशु झाड़े और डाॅ. हिंडोले घोष ने किया। कार्यक्रम की समाप्ति की घोषणा और अतिथियों के लिए आभार प्रदर्शन छात्र कल्याण अधिष्ठाता डाँ. आशा अंभईकर ने किया।

उक्त कार्यक्रम में विज्ञान विभाग के डाँ. प्रतीक जगताप, डाँ. विश्वास, डाँ. जीवीजी राव, अभिषेक पांडेय, सरबरी बानो और प्रियंका और विश्वविद्यालय के समस्त विभागाध्यक्ष, प्राध्यापक, अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थें।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.