26 जनवरी में CM के संबोधन पर शिक्षाकर्मियों से लेकर संविदाकर्मी व दैनिक वेतनभोगियों की होगी नजर… नियमितिकरण की उम्मीदें लगाये बैठे हैं हजारों कर्मचारी… हर बार मुख्यमंत्री से मिली है प्रदेश को बड़ी सौगात

रायपुर 26 जनवरी 2020। प्रदेश में गणतंत्र दिवस की धूम है। प्रदेश का मुख्य कार्यक्रम राजधानी के पुलिस परेड मैदान में हो रहा है, जबकि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जगदलपुर में झंडोत्तोलन करेंगे। मुख्यमंत्री अब से कुछ देर बाद झंडोत्तोलन के बाद प्रदेश के नाम संबोधन भी देंगे।

प्रदेश के नाम संबोधन में हर बार प्रदेश के लाखों लोगों की नजर रहती है। साल 2019 में 26 जनवरी हो या फिर 15 अगस्त घोषणाओं के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण रहा है। फिर 15 हजार शिक्षकों की भर्ती की घोषणा हो या फिर 15 अगस्त पर पेंड्रा-गौरेला-मरवाही जिले की बात। लिहाजा इस बार भी प्रदेश के शिक्षाकर्मी से लेकर संविदाकर्मी व दैनिक वेतनभोगियों की इस बात पर नजर होगी कि मुख्यमंत्री उनके लिए सौगात का ऐलान तो नहीं करेंगे।

सूत्र बता रहे हैं कि मुख्यमंत्री इस दफा भी कुछ घोषणाएं कर सकते हैं लेकिन पंचायत चुनाव की आचार संहिता आड़े आ सकती है। ऐसे में मुख्यमंत्री जब प्रदेश के नाम संबोधन देंगे, तो क्या वाकई में इस बार कुछ नया होगा या नहीं इस पर काफी नजर होगी। हाल ही में संविलियन की मांग को लेकर लगातार शिक्षाकर्मी एक बड़ा वर्ग मंत्रियों, विधायकों से मुलाकात कर रहा है। मुख्यमंत्री से भी कई दफा प्रतिनिधिमंडल मुलाकात कर चुका है। संविलियन से वंचित शिक्षाकर्मियों की संख्या अब बेहद कम है, लिहाजा संविलियन के ऐलान में कुछ ज्यादा दिक्कत नहीं है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल लगातार बजट की समीक्षा भी कर रहे हैं। शिक्षाकर्मी से लेकर अन्य वर्ग के लोग लगातार अपनी-अपनी मांगों के साथ मुख्यमंत्री से मिल रहे हैं। ऐसे में अगर आचार संहित की अड़चनें सामने नहीं आयी, तो हर बार की तरह इस बार भी कुछ बड़ी घोषणाओं का ऐलान किया जा सकता है। हालांकि ये संकेत जरूर हैं कि घोषणा पत्र में शामिल कुछ महत्वपूर्ण मुद्दों को पूरा करने की घोषणा हो सकती है।

Spread the love