NPG ब्रेकिंग: सरगांव पुलिस पर रायपुर की महिला आरक्षक का आरोप “अपहरण किया,फ़र्ज़ी केस में फँसाया, और कमरे में बदनीयति दिखाई..”

रायपुर,19 जनवरी 2020। मुंगेली ज़िले के सरगांव पुलिस थाना प्रभारी मनीष नागर के ख़िलाफ़ रायपुर की महिला आरक्षक ने अपहरण करने फर्जी केस में गिरफ़्तार करने और अपने कक्ष में बदनीयति दिखाने का आरोप लगाया है। मामले की लिखित शिकायत पीड़िता की माँ ने राष्ट्रपति को भेजी है, और उसकी प्रतिलिपि राज्यपाल मुख्यमंत्री गृहमंत्री को भेजी गई है। वहीं महिला आरक्षक ने घटना की सूचना रायपुर कप्तान को डाक से भेजी है जबकि सोमवार को वह डीजीपी से मिलने वाली है।
महिला आरक्षक ने इस मसले पर NPG से दूरभाष पर कहा –

“मेरे पिता का ट्रांसपोर्ट का कारोबार है,उन्होंने एक ट्रक भिलाई निवासी नज़म हुसैन को इस शर्त पर दी कि, वह किश्त पटाते रहे, लेकिन एक किश्त पटाने के बाद उसने दो किश्त ब्रेक कर दी, फ़ोन पर बत्तमीजी करने लगा। मेरे पिता गए और तीस दिसंबर को ट्रक ले आए।नौ दिन बाद मेरे पिता भाई और मेरे ख़िलाफ़ लूट की FIR दर्ज कर दी गई”

महिला आरक्षक ने आगे बताया

“मैं 12 जनवरी को पुजारी पार्क में युवा महोत्सव के सुरक्षा व्यवस्था के लिए ड्यूटी में थी, तभी सरगांव थाना प्रभारी मनीष नागर आए और बलपूर्वक यह कहते हुए ले गए कि FIR दर्ज है।

महिला आरक्षक का गंभीर आरोप है कि

“मैं उन्हें कहती रही कि, आप जिस तारीख़ की बात कर रहे हैं,मैं उस दिन ड्यूटी पर थी, मेरी रवानगी डली है, आप चेक कर लें लेकिन उन्होंने मुझे देखते हुए कहा वो सब तो ठीक है पर बताओ मुझे पैसा क्या दोगी, और अलग से क्या दोगी वे यह लाईन कई बार बोले, यह शब्द अशालीन थे और सेक्स की माँग करने वाले थे, मैंने उन्हें मना कर दिया”

महिला आरक्षक को सरगांव पुलिस ने 13 जनवरी को कोर्ट में पेश किया और उसी दिन महिला आरक्षक को ज़मानत मिल गई।


महिला आरक्षक ने पुलिस कप्तान को डाक से पूरी शिकायत भेजने और सोमवार को DGP से मिल कर शिकायत सौंपने की जानकारी दी है।
इधर मुंगेली कप्तान सी डी टंडन ने NPG से कहा

“घटना की लिखित शिकायत नही मिली है, मौखिक तौर पर कुछ जानकारी जरुर आई है, शिकायत पहुँचेगी तो जाँच होगी, और शिकायत सही पाए गए तो कार्यवाही भी, पर पहले शिकायत तो आए”

Spread the love