एनएमडीसी के सीएमडी बैजेंद्र कुमार को प्रतिष्ठित बिजनेस लीडरशिप अवार्ड, सीएसआर का पुरस्कार भी एनएमडीसी को

NPG.NEWS

हैदराबाद, 21 फरवरी, 2020. नई दिल्‍ली में गवर्नेंस नाउ पीएसयू अवार्ड  के सातवें अधिवेशन में एनएमडीसी के सीएमडी एन. बैजेन्‍द्र कुमार, आईएएस, को बिजनेस लीडरशिप अवार्ड, 2020 प्रदान किया गया। ये वार्षिक अवार्ड पीएसयू के प्रशासन में विशिष्‍ट नेतृत्‍व का प्रदर्शन करने वाले व्‍यक्तियों तथा व्‍यापार को मान्‍यता प्रदान करते हैं जिन्‍होंने अपने स्‍टेक धारकों के संरक्षण तथा दीर्घावधि मूल्‍य को सुनिश्चित किया है। इस अवार्ड के द्वारा सार्वजनिक क्षेत्र के ऐसे उपक्रमों (पीएसयू) को सम्‍मानित किया जाता है जिन्‍होंने देश की आर्थिक प्रगति तथा सामाजिक  विकास में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाई हो।

इस सातवें अवार्ड अधिवेशन में अर्जुन राम मेघवाल, राज्‍य मंत्री, संसदीय कार्य मंत्रालय एवं जल संसाधन मंत्रालय, नदी विकास एवं गंगा संरक्षण, भारत सरकार तथा शैलेश लोढा, भारतीय कलाकार, कामेडियन तथा लेखक उपस्थित थे। श्री मेघवाल ने विभिन्‍न वर्गों – वित्‍त, मूलभूत सुविधाओं के विकास में सीएसआर तथा लीडरशिप अवार्ड आदि में सर्वोत्‍तम प्रदर्शन करने वाले विजेताओं को पुरस्‍कार प्रदान किए।

अमिताभ मुखर्जी, निदेशक (वित्‍त) ने वित्‍तीय तथा आधारभूत सुविधाओं के विकास में सीएसआर वर्ग में सर्वोत्‍तम निष्‍पादक का पुरस्‍कार एनएमडीसी की ओर से प्राप्‍त किया।

इस अवसर पर बोलते हुए एनएमडीसी के सीएमडी बैजेन्‍द्र कुमार ने कहा कि “कार्पोरेट बिजनेस लीडर”का पुरस्‍कार प्राप्‍त होना एक सम्‍मानजनक बात है तथा यह मेरे लिए अत्‍यंत गर्व की बात है। यह अवार्ड प्राप्‍त होना एनएमडीसी टीम की प्रतिबद्धता को सिद्ध करता है तथा मैं यह अवार्ड एनएमडीसी परिवार के प्रत्‍येक सदस्‍य को उनके निष्‍ठावान प्रयासों के लिए समर्पित करता हूँ।

एनएमडीसी के बारे में  :

एनएमडीसी लिमिटेड भारत सरकार, इस्‍पात मंत्रालय के अधीन सार्वजनिक क्षेत्र का एक नवरत्‍न उद्यम है। यह भारत का सबसे बड़ा एकल लौह अयस्‍क उत्‍पादक है तथा छत्‍तीसगढ़ एवं कर्नाटक में आधुनिक तकनीक वाली लौह अयस्‍क खानों का प्रचालन करता है। एनएमडीसी को विश्‍व के कम लागत वाले उत्‍पादकों में एक माना जाता है। यह मध्‍य प्रदेश के पन्‍ना में भारत की एकमात्र मशीनीकृत हीरे की खान का प्रचालन करता है। कंपनी इस्‍पात निर्माण के क्षेत्र में विविधीकरण कर रही है तथा अपनी परियोजनाओं को आधुनिक बनाने एवं क्षमता का विस्‍तार करने के लिए अनेक पूंजीसघन परियोजनाएं संचालित कर रही है जिससे कि देश में नेतृत्‍व बनाए रखते हुए विदेश में भी सफलतापूर्वक विस्‍तार किया जा सके।

Spread the love