npg
नेशनल

छात्रों ने चलती ट्रेनों में लगाई आग,धू-धू कर जल गईं बोगियां... जमकर पथराव भी...जानिए क्या है पूरा मामला?

छात्रों ने चलती ट्रेनों में लगाई आग,धू-धू कर जल गईं बोगियां... जमकर पथराव भी...जानिए क्या है पूरा मामला?
X

पटना 26 जनवरी 2022. आरआरबी -एनटीपीसी (RRB NTPC) रिजल्ट विवाद कम होने का नाम नहीं ले रहा है. आज भी बिहार में कई जगहों पर छात्रों ने प्रदर्शन किया और इस दौरान एक ट्रेन को आग के हवाले कर दिया. आक्रोशित छात्रों ने यार्ड में खड़ी पैसेंजर ट्रेन को आग लगा दी. ट्रेन में लगी आग को काबू में पाने के लिए फायर बिग्रेड की टीम को मौके पर पहुंचना पड़ा. पुलिस छात्रों को शांत करने की कोशिश कर रही है. लेकिन आक्रोशित छात्रों पुलिस के नियंत्रण से भी बाहर हैं. वहीं दूसरी ओर गया रेलवे स्टेशन परिसर में चलती ट्रेन पर छात्रों ने जमकर पथराव किया.


मंगलवार को सीतामढ़ी में तो तोडफ़ोड़ और पथराव कर रही भीड़ को पुलिस ने हवाई फायरिंग कर हटाया था. भारी विरोध प्रदर्शन को देखते हुए बुधवार सुबह ही रेलवे ने एनटीपीसी और ग्रुप डी (श्रेणी-1) की परीक्षाएं स्थगित की घोषणा की थी, लेकिन रेलवे के इस फैसले के बाद भी छात्रों का गुस्सा थमा नहीं है और पूरे बिहार में उबाल है.

आज गया में भी छात्रों ने जमकर बवाल काटा. गया रेलवे स्टेशन परिसर में चलती ट्रेन पर जहां छात्रों ने जमकर पथराव किया. वहीं दूसरी ओर आक्रोशित छात्रों ने यार्ड में खड़ी पैसेंजर ट्रेन को आग के हवाले कर दिया. धू-धू कर जल रही ट्रेन की बोगियों में लगी आग को बुझाने के लिए फायर बिग्रेड की टीम पहुंचने वाली है. भारी संख्या में पुलिस बल मौके पर मौजूद तो है लेकिन आक्रोशित छात्रों के सामने उग्र छात्रों पर से पुलिस का नियंत्रण टूटता दिख रहा है. उग्र छात्रों ने कई ट्रेनों को निशाना बनाया है. श्रमजीवी एक्सप्रेस को भी छात्रों ने भारी क्षति पहुंचाई है.


इस दौरान आक्रोशित छात्रों ने भभुआ-पटना इंटरसिटी एक्सप्रेस के बोगी में आग लगा दी. छात्रों को खदेड़ने के लिए पुलिस ने बल का प्रयोग किया, लेकिन छात्र रह-रह कर हंगामा कर रहे हैं और पुलिस की तरफ़ पत्थर भी फेंक रहे हैं. घटनास्थल पर गया के एसएसपी आदित्य कुमार सहित आरपीएफ एवं रैपिड एक्शन फोर्स के जवान भी मौजूद हैं.

छात्रों के हिंसक प्रदर्शन को देखते हुए रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव दोपहर साढ़े तीन बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने कहा कि हमारे पास परीक्षा को लेकर कोई शिकायत नहीं आई। हमने जांच कमेटी बनाई है और वो इसकी जांच करेगी। कमेटी 4 मार्च तक अपनी रिपोर्ट सौंप देगी।

उन्होंने छात्रों से अपील की कि रेलवे आपकी ही संपत्ति है और इसकी सुरक्षा करिए। रेल मंत्री ने कहा कि कुछ लोग छात्रों के प्रदर्शन का गलत फायदा उठा रहे हैं। छात्रों को भ्रमित न किया जाए, ये मामला देश का है। छात्रों से अपील है कि आप अपना विषय हमारे सामने रखिए और संवेदनशीलता के साथ इसे देखेंगे।

रेलवे के एक प्रवक्ता ने बताया कि रेलवे ने एक समिति भी बनाई है, जो विभिन्न रेलवे भर्ती बोर्ड (आरआरबी) की ओर से आयोजित परीक्षाओं में सफल और असफल होने वाले परीक्षार्थियों की शिकायतों की जांच करेगी. प्रवक्ता के मुताबिक, दोनों पक्षों की शिकायतें और चिंताएं सुनने के बाद समिति रेल मंत्रालय को एक रिपोर्ट सौंपेगी.

क्या है पूरा मामला?

रेलवे भर्ती बोर्ड की गैर तकनीकी लोकप्रिय श्रेणियों (आरआरबी-एनटीपीसी) परीक्षा 2021 परिणाम के विरोध में छात्रों ने कर बिहार और यूपी में विरोध प्रदर्शन किया, जो अन्य हिस्सों में फैल गया. इस दौरान छात्रों की पुलिस के साथ भी झड़प हुई. विरोध प्रदर्शन के कारण कई ट्रेनों को रद्द कर दिया गया. विरोध-प्रदर्शन की घटनाएं पटना, नवादा, मुजफ्फरपुर, सीतामढ़ी, बक्सर और भोजपुर जिलों से हुईं. कुछ जगहों पर गुस्साए प्रदर्शनकारियों ने रेलवे ट्रैक को जाम कर दिया और सुरक्षा बलों से भिड़ गए और रेलवे संपत्ति को नुकसान पहुंचाया.

प्रदर्शनकारियों ने दावा किया कि 2019 में जारी आरआरबी अधिसूचना में केवल एक परीक्षा का उल्लेख किया गया था. उन्होंने अधिकारियों पर छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ करने का आरोप लगाया. परीक्षा परिणाम 15 जनवरी को घोषित होने के बाद इस मामले ने तूल पकड़ा है. उस समय रेल मंत्रालय ने एक स्पष्टीकरण जारी किया था, जिसमें कहा गया था कि अधिसूचना में दूसरे चरण की परीक्षा का स्पष्ट रूप से उल्लेख किया गया था. सीबीटी के पहले चरण की परीक्षा सभी उम्मीदवारों के लिए एक सामान्य परीक्षा थी.

यूपी-बिहार में छात्रों के उग्र प्रदर्शनों के बाद रेलवे रिक्रूटमेंट बोर्ड ने RRB NTPC CBT 2 और Group D CBT 1 परीक्षा को स्थगित करने का फैसला किया. साथ ही बोर्ड ने स्टूडेंट्स के वॉलेंटियर्स को साथ लेकर एक कमेटी का भी गठन किया है, जोकि नतीजों पर पुनर्विचार करेगी. इसके बाद फिर से परीक्षाओं का आयोजन किया जाएगा.

Next Story