थप्पड़ कांड पर मंत्री बोले- कलेक्टर के पास लाठीचार्ज और गोली चलाने के अधिकार, थप्पड़ नहीं मारना चाहिए था

भोपाल 7 फरवरी 2020। मध्य प्रदेश के राजगढ़ में डीएम निधि निवेदिता के थप्पड़कांड पर राजनीति चरम पर है। नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में भाजपा की ओर से रैली निकाली गई थी। वहीँ गृहमंत्री बाला बच्चन ने कार्रवाई की बात कही है। इसी बीच राज्य के सामान्य प्रशासन मंत्री गोविंद सिंह के बयान ने हलचल मचा दिया है। गोविंद सिंह ने कहा कि कलेक्टर के पास लाठीचार्ज और गोली मारने का अधिकारी है, न कि थप्पड़ मारने का। डीएम को थप्पड़ नहीं मारना था। हालांकि बाद में उन्होंने इसे अपना व्यक्तिगत विचार बताया। कहा कि कलेक्टर जैसे जिम्मेदार पद पर बैठे अधिकारी को संयम से काम लेना चाहिए।

गोविंद सिंह ने कहा कि मैं किसी को भी अवैधानिक कार्य करने पर तारीफ नहीं करूंगा। राजगढ़ में भाजपा कार्यकर्ताओं के सीएए के समर्थन में रैली निकालने पर कलेक्टर निधि निवेदिता ने कार्यकर्ताओं को थप्पड़ मारा था। इस मामले ने राष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियों बटोरी थीं। वहीं पुलिस की जांच रिपोर्ट में कलेक्टर द्वारा थप्पड़ मारने का दोषी माना गया है।

एसडीओपी की जांच रिपोर्ट में इस बात की पुष्टि की गई कि भाजपा कार्यकर्ता नरेश शर्मा को कलेक्टर ने थप्पड़ मारा था। जांच रिपोर्ट आने के बाद डीजीपी वीके सिंह ने आगे की कार्रवाई के लिए गृह विभाग के प्रमुख सचिव को पत्र लिखा है। हालांकि, गृहमंत्री बाला बच्चन इस मामले में चुप्पी साधे हुए हैं। उन्होंने बुधवार को सुबह डीजीपी से जांच रिपोर्ट मिलने की बात स्वीकार की थी, लेकिन शाम तक गृहमंत्री इस मामले में कुछ बोलने से इनकार करने लगे।

ये था पूरा मामला
नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में मध्यप्रदेश के राजगढ़ जिले के ब्यावरा में रैली निकाल रहे भाजपा कार्यकर्ताओं की कलेक्टर निधि निवेदिता से झड़प हो गई। कलेक्टर ने प्रदर्शनकारियों से ब्यावरा के कुछ इलाकों में धारा 144 लागू होने का हवाला दिया गया। जिससे आक्रोशित भाजपा कार्यकर्ता नारेबाजी करने लगे।इससे नाराज कलेक्टर निधि निवेदिता ने भाजपा जिला मीडिया प्रभारी रवि बड़ोने को थप्पड़ मार दिया। इसके बाद भी जब भीड़ ने नारेबाजी कम नहीं की तब उन्होंने एक पुलिसकर्मी का डंडा लेकर भीड़ को धक्का मारने लगीं। कलेक्टर ने रैली की अगुवाई करते हुए तिरंगा लेकर चल रहे राजगढ़ के पूर्व विधायक अमरसिंह यादव के साथ भी धक्कामुक्की की।कलेक्टर को एक्शन में देखकर डिप्टी कलेक्टर प्रिया वर्मा ने भी भीड़ से लोगों को पकड़कर पुलिस को सौंपने लगीं। तभी उनके साथ भीड़ ने अभद्रता कर दी। जिसके बाद स्थिति को नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज कर दिया। इस कार्रवाई में कई भाजपा कार्यकर्ता घायल हो गए।

Spread the love