प्रिंसिपल सिकरेट्री को नोटशीट लिख मंत्री रविंद्र चौबे ने वर्मी कंपोस्ट खरीदी में जांच के दिये आदेश…”सप्लायर का भुगतान रोंके….दोषी अफसरों व सप्लायरों पर दर्ज करायें FIR” …. विभाग में मचा हड़कंप

रायपुर 17 फरवरी 2020। वर्मी कंपोस्ट खरीदी में गड़बड़ी मामले में राज्य सरकार ने जांच के आदेश दिये हैं। कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने प्रिंसिपल सिकरेट्री मनिंदर कौर द्विवेदी को निर्देश दिया है कि इस पूरे प्रकरण की जांच की जाये। वहीं सप्लायर के भुगतान को भी रोकने का आदेश दिया गया है। दरअसल तीन महीने पहले उद्यानिकी विभाग ने करोड़ों रुपये की वर्मी कंपोस्ट की खरीदी की थी। कमाल की बात ये रही कि कंपोस्ट जिस कीमत पर खरीदी गयी, वो ना सिर्फ मार्केट रेट से तीगुने-चौगुने रेट का था, बल्कि गुणवत्ताविहिन भी था।

मतलब जिस कंपोस्ट की सप्लाई सप्लायर के द्वारा की गयी, वो सबसे लो कैटेगरी का था, लेकिन विभाग ने उसे हाई कैटेगरी के रेट से भी ज्यादा दाम पर खरीदा गया। इस मामले की शिकायत कृषि मंत्री तक भी पहुंची थी, जिसके बाद उन्होंने इस मामले में एक्शन लेते हुए तत्काल जांच के आदेश दिये। उन्होंने नोटशीट भेजकर प्रकरण की जांच करने और सप्लायर के भुगतान को रोकने का निर्देश दिया है। साथ ही अधिकारियों की भूमिका की भी जांच के आदेश दिये हैं। इस प्रकरण में दोषी अधिकारी और सप्लायर पर FIR के भी निर्देश दिये गये हैं।

आपको बता दें कि इस वर्मी कंपोस्ट को लेकर शिकायते लगातार आ रही थी, कई जिलों से भी इस वर्मी कंपोस्ट के अमानक होने की शिकायत की गयी थी। अब इस मामले में जांच के आदेश के अधिकारियों में हड़कंप मच गया है।

 

Spread the love