मंत्री अमरजीत का सहज सरगुजिहा अंदाज.. ग्रामीणों ने की शिकायत नहीं मिला राशन तो बोले “कौन गड़बड़ करत है.. रुका अझे गरियात हों.. तत्काल व्यवस्था ठीक होही..झिन रिसईहा”

अंबिकापुर,2 मार्च 2020। खाद्य मंत्री अमरजीत भगत की सरलता सहजता और भदेस सरगुजिहा पन उनकी लोकप्रियता और लगातार जीत का इकलौता रहस्य है। मंत्री अमरजीत भगत इस भदेस को ना छिपाते हैं और ना इस पर शर्माते हैं। वे अक्सर कहते भी हैं

“सरगुजिहा आदमी का साहब बनहीं हो.. सोझ बोलथी.. सोझ समझथी.. अउ सोझ करथी”

खाद्य मंत्री अमरजीत भगत फ़ेसबुक लाईव्ह पर आए तो संवाद का यही मिज़ाज अंदाज़ फिर देखने को मिला। कोरबा ज़िले के एक फ़ेसबुक यूज़र ने कहा

“मंत्री जी.. बतात तो ठीके हस.. हाल भी लेत हस ओहू ठीक है..लेकिन ए जग के चार पंचायत में एकेच्च महिना के राशन बँधाइस है.. लेन बता कईसे करबे”

अब अमरजीत तो अमरजीत.. तुरंत बोले

“कईसे.. कईसे.. रुक तो.. अझेच्च ठीक करत हों.. कौन गड़बड़ करत है.. तुरते नापत हों.. एकदम गरिया के ठीक करत हों सियान.. झिन रिसा”

इसके ठीक बाद मंत्री अमरजीत भगत ने खाद्य अधिकारी को लताड़ लगाई और दो टूक कहा

“देखा अईसे करिहा तो ठीक नई होही.. बता देत हों.. कहावत सूने हस न.. कम बोलेन जियादा समझना.. समझे रह बाबू…”

बीस मिनट के भीतर चारों पंचायतों में दो महिने का राशन पहुँच गया।

Spread the love