संविलियन हुआ पक्का : लोक शिक्षण संचालनालय ने किया स्पष्ट…. 2 वर्ष की सेवा अवधि पूर्ण कर चुके समस्त शिक्षाकर्मियों का होगा 1 जुलाई 2020 को संविलियन …

रायपुर 27 जून 2020। आखिरकार संविलियन पर छाया कोरोना का बादल पूरी तरह हट गया है और शिक्षाकर्मियों के संविलियन की अहम जिम्मेदारी निभाने वाले लोक शिक्षण संचालनालय विभाग ने स्पष्ट कर दिया है कि 1 जुलाई 2020 को प्रदेश के उन तमाम शिक्षा कर्मियों का संविलियन होगा जो 2 वर्ष की सेवा अवधि पूर्ण कर चुके हैं । प्रदेश के समस्त जिला शिक्षा अधिकारियों को जारी किए गए पत्र में लोक शिक्षण संचालनालय के वित्त नियंत्रक ने इस बात को स्पष्ट किया है और प्रदेश के सभी जिला शिक्षा अधिकारियों से विभागीय बजट की जानकारी मांगते हुए इस बात को स्पष्ट किया है और इसी के आधार पर वेतन भुगतान हेतु व्यय एवं आबंटन की जानकारी भेजने के लिए कहा है।

इधर इस पत्र के बाद शिक्षाकर्मियों में खुशी की लहर है क्योंकि बीते कुछ दिनों से कुछ स्थानीय कार्यालय केवल 8 वर्ष की सेवा अवधि पूर्ण कर चुके शिक्षा कर्मियों की जानकारी मंगाई थी जिसके बाद उस क्षेत्र विशेष के शिक्षाकर्मियों में अपने संविलियन को लेकर चिंता आने लगी थी हालांकि शिक्षाकर्मियों के संविलियन की लड़ाई में सबसे अहम भूमिका निभाने वाले संविलियन अधिकार मंच के प्रदेश संयोजक विवेक दुबे का यह बार-बार कहना था की संविलियन समय पर होगा और हमें सरकार पर पूरा भरोसा है और आज उस बात की पुनः पुष्टि हो गई है ।

वित्त नियंत्रक का पत्र अपने आप में संपूर्ण… समय पर होगा संविलियन – विवेक दुबे

पत्र जारी होने के बाद संविलियन अधिकार मंच के प्रदेश संयोजक विवेक दुबे ने कहा है कि

प्रदेश में शिक्षाकर्मी भी इस बात को भलीभांति जानते हैं की वर्तमान विपरीत परिस्थितियों के कारण थोड़ी सी लेटलतीफी हो रही है लेकिन हमें सरकार पर पूर्ण विश्वास है और अब लोक शिक्षण संचालनालय के वित्त नियंत्रक द्वारा जारी किए गए इस पत्र से भी पूरी तरह स्पष्ट हो चुका है कि 1 जुलाई 2020 को 2 वर्ष की सेवा अवधि पूर्ण कर चुके समस्त शिक्षाकर्मियों का संविलियन होगा, निश्चित तौर पर यह राहत की खबर है और हमारे विश्वास की जीत है । उम्मीद है संविलियन की समय सारणी भी जल्द ही जारी होगी और जुलाई में शिक्षाकर्मियों के संविलियन के बाद 1 अगस्त से पहले उन्हें उनका पहला वेतन मिल जाएगा

Get real time updates directly on you device, subscribe now.