माराडोना की मौत : बिग ब्रेकिंग : दुनिया के सर्वश्रेष्ठ फुटबॉलर डिएगो माराडोना की हार्ट अटैक से मौत….पिछले काफी वक्तों से चल रहे थे बीमार… रायटर ने की इस फुटबॉलर की मौत की पुष्टि

नयी दिल्ली 25 नवंबर 2020। दिग्गज फुटबॉलर डिएगो माराडोना अब नहीं रहे। लंबे समय से बीमार चल रहे माराडोना की मौत दिल का दौरा पड़ने से हुआ। एजेंसी रायटर के हवाले से खबर आयी है कि माराडोना का निधन दिल का दौरा पड़ने से हो गया है। अर्जेंटीना के इस मशहूर खिलाड़ी ने फुटबॉल की दुनिया में अपनी श्रेष्ठतम पहचान बनायी थी। 30 अक्टूबर 1960 को जन्मे माराडोना को FIFA प्लेयर ऑफ़ दी सेंचुरी का भी खिताब मिल चुका है।

मारोडोना के निधन के खेल जगत से लगातार प्रतिक्रिया आ रही है। वीरेंद्र सहवाग ने जहां इसे खेल जगत के लिए सबसे बुरा दिन बताया है। तो वहीं सौरव गांगुली ने कहा कि मारोडोना आप मेरे लिए हीरो थे आपके लिए फुटबॉल देखता था। राहुल गांधी ने कहा है कि माराडोना जादूगर थे। बाबुल सुप्रीयो ने कहा है कि मेरे लिए माराडोना के साथ ही फुटबॉल की मौत है। वीवीएस लक्ष्मण ने कहा कि आज खेल जगत का सबसे बुरा दिन है।

माराडोना ने चार विश्व कप फुटबॉल खेले और 1986 वर्ल्ड कप फुटबाल में उसने अर्जेंटीना की कप्तानी भी की थी। इस टूर्नामेंट में माराडोना को सर्वश्रेष्ठ फुटबॉल प्लेयर का गोल्डन बॉल खिताब भी मिला था। 1997 में मारोडोना ने इंटरनेशनल फुटबॉल से संन्यास ले लिया।

माराडोना के नाम पर खिताब के साथ कई विवाद भी दर्ज थे। डोप टेस्ट में फेल होने के बाद उन्हें एक बार 1994 वर्ल्ड कप से घर वापस भेज दिया गया है। उससे पहले कोकीन के सेवन की वजह से वो डोप टेस्ट में फेल गये थे, जिसके बाद 1991 में उन पर 15 महीने का बैन भी लगाया गया था। कोकीन की वजह से उनकी तबीयत बिगड़ती चली गयी और अब उनके निधन की खबर आ गयी है।

Spread the love