मंत्री के करीबी ठेका कंपनी और बालको पर जिला प्रशासन की बड़ी कार्रवाई, करोड़ों का ठोका जुर्माना, कलेक्टर बोलीं…अवैध माईनिंग करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा

0 बालको के राखड़ बांध का काम कराया बंद, 3 दिन में दिखाने होंगे वैध दस्तावेज!

NPG.NEWS

कोरबा 29 मई 2020। कोरबा से प्रदेश के एक मंत्री के करीबी रसूखदार ठेका कंपनी और बालको प्रबंधन के खिलाफ जिला प्रशासन की बड़ी कार्रवाई की खबर सामने आ रही है। बताया जा रहा है कि प्रदेश के एक मंत्री के करीबी आरकेटीसी ठेका कंपनी को बालको के राखड़ बांध के रेजिंग का काम दिया गया था। लेकिन ठेका कंपनी ने अपने रसूख का धौंस दिखाकर बड़े पैमाने पर गौण खनिज जैसे रेत, मिटटी और बोल्डर का अवैध खनन कर न केवल शासन को करोड़ो रूपये की क्षति पहुचाई, बल्कि इन अवैध खनन से प्राप्त खनिजो को बालको के राखड़ बांध में बैखौफ होकर इस्तेमाल भी किया गया। इस पूरे मामले की शिकायत कोरबा कलेक्टर किरण कौशल से की गयी थी। जिस पर कलेक्टर किरण कौशल ने फौरन इस गंभीर मामले पर संज्ञान लेते हुए खनिज और पर्यावरण विभाग की संयुक्त टीम बनाकर बालको सहित एनटीपीसी, सीएसईबी, लैंका व दूसरे अन्य पॉवर प्लांटो के राखड़ बांध की जांच का आदेश दिया गया था। पिछले दो दिनों से चल रहे जिला प्रशासन की संयुक्त टीम की जांच में बालको के राखड़ बांध में जमकर धांधली किये जाने के साथ ही पर्यावरण नियमों की खुलकर धज्जियां उड़ाई जाने की बात सामने आई है। जिस पर पर्यावरण विभाग ने बालको के राखड़ बांध में एयर पॉल्युशन एक्ट के उल्लंघन के मामले को गंभीर बताते हुए बालको के राखड़ बांध में चल रहे काम का तत्काल बंद करने का आदेश देते हुए जहां बालको प्रबंधन को नोटिस जारी किया है वहीं, खनिज विभाग ने बालको के राखड़ बांध के रेजिंग के लिए मौके पर रखे रेत, मिटटी और बोल्डर को जब्ती बनाते हुए राखड़ बांध में इस्तेमाल किये गये खनिज संपदा का ब्योरा खंगाला जा रहा है। खनिज विभाग की प्राथमिकी जांच में यह पता चला है कि बालको के राखड़ बांध में आरकेटीसी ठेका कंपनी ने काम करने के दौरान करीब 2 लाख 47 हजार क्यूबिक मीटर रेत के साथ ही 3 लाख 19 हजार क्यूबिक मीटर मिटटी, 51 हजार 61 क्यूबिक मीटर बोल्डर और 15 हजार 126 क्यूबिक मीटर गिट्टी का उपयोग किया जा चुका है। इस पूरे प्रकरण में गौर करने वाली बात ये भी है कि यदि बालको के राखड़ बांध में उपयोग किये गये खनिज संपदा के वैध दस्तावेज प्रस्तुत नही किये जाते है, तो खनिज विभाग इस पूरे प्रकरण में ठेका कंपनी और बालको पर करोड़ो रूपये का जुर्माना ठोकने की तैयारी में है।
ऐश डाईक के क्षेत्र में रखे 5 लाख टन रेत, मिटटी और बोल्डर के इस्तेमाल पर खनिज विभाग ने रोक लगाते हुए बालको प्रबंधन को नोटिस जारी कर दिया है। खनिज विभाग ने बालको को नोटिस जारी कर राखड़ बांध में उपयोग किये गये खनिज संपदा के वैध दस्तावेज 3 दिनों के भीतर कार्यालय में प्रस्तुत करने को नोटिस जारी किया गया है। यदि तय समय में वैध दस्तावेज प्रस्तुत नही किये जाते है तो अवैध खनन और उसके उपयोग के खिलाफ खनिज विभाग की कार्रवाई प्रदेश में सबसे बड़ी कार्रवाई मानी जायेगी।
कलेक्टर किरण कौशल ने इस पूरे प्रकरण में संबंधित ठेका कंपनी के खिलाफ पुलिस में कानूनी कार्रवाई करने की बात कही है। कोरबा कलेक्टर की इस बड़ी कार्रवाई के बाद एक बार फिर पॉवर प्लांट के राखड़ बांध में अवैध खनन के जरिये मोटा पैसा कमाने वाले ठेका कम्पनियो के बीच हड़कंप मच गया है। जिला प्रशासन ने जिले के सभी राखड़ बांधो की जांच शुरू कर दी है। ऐसे में उम्मींद जताई जा रही है कि आने वाले दिनों में और भी लोगों के खिलाफ बड़ी कार्रवाई कोरबा में हो सकती है।

कलेक्टर किरण कौशल ने कहा…

जिला प्रशासन को पावर प्लांट के राखड़ बांध में अवैध खनन कर खनिज का उपयोग किये जाने के साथ ही पर्यावरण नियमो की अनदेखी किये जाने की शिकायत मिली थी। इस मामले को गंभीरता से लिया गया और संयुक्त टीम बनाकर जांच का आदेश दिया गया है। जिले में पर्यावरण नियमो की अनदेखी और अवैध खनन बर्दास्त नही किया जाएगा। जो भी ऐसे मामलों में दोषी होंगे उनके खिलाफ़ कड़ी कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.