लॉकडाउन की मार: Swiggy एक हजार कर्मचारियों की करेगा छंटनी, डिमांड में 60% गिरावट आने के बाद कंपनी ने लिया बड़ा फैसला

नई दिल्ली 23 अप्रैल 2020। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए देश भर में लॉकडाउन लागू है। इस माहौल में देश के अलग-अलग सेक्टर बुरी तरह प्रभावित हुए हैं. इस वजह से कर्मचारियों की नौकरियों पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं. बीते कुछ दिनों में लगातार छंटनी की खबरें आ रही हैं. अब खबर है कि ऑनलाइन फूड डिलीवरी प्लेटफॉर्म स्विगी 1000 कर्मचारियों की छंटनी कर सकती है।

ऐसा भी कहा जा रहा है कि स्विगी ने इस बात की पुष्टि भी कर दी है लेकिन कितने कर्मचारियों को निकाला जाएगा उस संख्या का खुलासा अभी नहीं किया गया है। ऐसा भी कहा जा रहा है कि कंपनी किराए को कम करने के लिए अपने क्लाउड किचन के आधे हिस्से को बंद कर सकती है। रिपोर्ट के मुताबिक, स्विगी अगले महीने कर्मचारियों की छंटनी करने की योजना बना रही है।

स्विगी के प्रवक्ता ने कहा कि जैसा कि लॉकडाउन आगे बढ़ाया जाता है तो हम हम फुर्तीला बने रहने के लिए विभिन्न साधनों का मूल्यांकन करेंगे और अपनी रसोई में विकास और लाभप्रदता पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। दुर्भाग्य से एक निश्चित संख्या में रसोई कर्मचारियों पर प्रभाव पड़ेगा जो इस संक्रमण के दौरान पूरी तरह से समर्थित थे। रिपोर्ट में कहा गया है कि कंपनी अगले 20-24 महीनों के लिए नकदी का संरक्षण करना चाहती है।

स्विगी की तरफ से कर्मचारियों की छटनी की खबर ऐसे समय आई है जब नेशनल रेस्टोरेंट एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एनआरएआई) ने कोरोना वायरस के चलते बड़े नुकसान की आशंका जताई है। एनआरएआई के मुताबिक जोमैटो-स्विग्गी जैसे डिलीवरी चेन का कारोबार घटकर 90 फीसदी पर आ गया है।

बता दें कि देश में 90 फीसदी रेस्टोरेंट लीज पर ली हुई जगह में चलते हैं. करीब 20 फीसदी ऐसे संगठित रेस्टोरेंट मॉल्स में हैं। इसके अलावा बाकी शहरों के मुख्य इलाकों की सड़कों पर हैं। इन रेस्टोरेंट को अपनी आमदनी का 15 से 30 फीसदी तक किराया देना होता है।

 

Spread the love