बिलासपुर, रायगढ़ और जांजगीर से कोरबा पहुंचे लैब टेक्नीशियन, 15 लोगों की टीम कोरबा में करेगी लोगों की सैम्पलिंग… कोरोना संक्रमण से निपटने प्रशासन ने झोंकी पूरी ताकत

कोरबा 10 अप्रैल 2020। कोरबा के कटघोरा में बीते 24 घंटे के भीतर 8 कोरोना पाॅजिटिव मरीजों के मिलने के बाद कोरबा सहित पूरे प्रदेश में हड़कंप मच गया है। कोरोना पाॅजिटिव आने वाले सभी लोग एक ही विशेष समुदाय के होने के कारण इस पूरे संक्रमण को कटघोरा के जामा मस्जिम में आये संक्रमित जमातियोें से जोड़कर देखा जा रहा है। आलम ये है कि अब कटघोरा के पुरानी बस्ती क्षेत्र के साथ ही आसपास के लोग कोरोना संक्रमण फैलने के खतरे से घबराये हुए है। जिला प्रशासन ने कल 7 नये मरीज मिलने के बाद जहां कटघोरा के वार्ड नंबर 10 और 11 को पूरी तरह से सील कर दिया है। वहीं इन 7 संक्रमित मरीजों के संपर्क में आने वाले 87 लोगों के सैम्पल कल रात को ही रायपुर एम्स भेजे दिये गये है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश के बाद कटघोरा के संक्रमित क्षेत्र में लोगों के सेम्पलिंग में तेजी लाई गयी है।

कोरबा जिला में पहले ही 9 लैब टेक्नीशियन सेम्पलिंग के काम में लगे हुए थे, राज्य सरकार के आदेश के बाद बिलासपुर, रायगढ़ और जांजगीर जिले से 2-2 लैब टैक्नीशियन कोरबा भेजे गये है। इन लैब टेक्नीशियन के कोरबा आने के बाद कटघोरा में कम समय मे अधिक लोगो का सैम्पल लिया जा सकेगा और समय रहते संक्रमण के बढ़ते खतरे को रोकने के कारगर उपाय किये जा सकेगें। फिलहाल कलेक्टर किरण कौशल ने कटघोरा में मोर्चा संभाले रखा है…..वो खुद कटघोरा पहुंचकर मेडिकल टीम और प्रशासनिक कार्यो की निगरानी रख रही है। कलेक्टर किरण कौशल ने बताया कि जिला प्रशासन और स्वास्थ विभाग की टीम पहले से ही अलर्ट मोड में है। 7 मरीजों के एक साथ कोरोना पाॅजिटिव आने के बाद कटघोरा क्षेत्र को अति संवेदनशील घोषित करते हुए पूरी तरह से तालाबंदी कर सुरक्षा के सारे ऐहतियात बरते जा रहे है ताकि कोरोना संक्रमण के चैन को तत्काल प्रभाव से ब्रेक किया जा सके।

चैतमा और नूनेरा को भी किया गया लाॅक डाउन

जिला प्रशासन ने चैमता और ग्राम नूनेरा को भी पूरी तरह से लाॅक डाउन कर क्षेत्र को पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया है। बताया जा रहा है कि पाली थाना के चैतमा मस्जिम के ईमाम के रिश्तेदार कटघोरा में रहते है। कटघोरा के रिश्तेदारों ने जामा मस्जिम में जमातियों के साथ नमाज पढ़ी थी। जिसके बाद 6 सदस्य कटघोरा से चैतमा मस्जिम के ईमाम के घर पर 19 मार्च को पहुंचे थे। यहां 3 दिन रूकने के दौरान उन्होने गांव के 20 से अधिक परिवारों से मुलाकात की थी। मामले की जानकारी के बाद कलेक्टर किरण कौशल ने सभी परिवार के करीब 200 से भी अधिक लोगों को पिछले दिनो होम क्वारेंटाईन करवा दिया था।

कटघोरा में बुधवार की रात एक कोरोना पाॅजिटिव मरीज मिलने के बाद कलेक्टर किरण कौशल ने मामले की गंभीरता को देखते हुए गुरूवार की सुबह ही चैतमा और नूनेरा को भी कम्पलीट लाॅक डाउन करने का निर्देश दिया गया। जिसके बाद अब क्षेत्र में लोगों को घरों से बाहर निकलने और बाहरी लोगों के गांव में आने पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया गया है। दोनों ही गांव केा पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया है।

Spread the love