सरकारी अस्पताल से किडनैप हुआ नवजात को 24 घंटे के भीतर राजधानी पुलिस ने किया बरामद ….. मां नहीं बन पा रही महिला ने भाई संग दिया था अपहरण की वारदात को अंजाम….बच्चे को गोद में लेते ही रो पड़ी मां….राजधानी पुलिस को कहा- धन्यवाद

रायपुर 21 जून 2020। अस्पताल से नवजात के अपहरण की गुत्थी पुलिस ने चंद घंटों में ही सुलझा ली है। इस मामले में नवजात को जहां सकुशल मां तक पहुंचा दिया गया है, तो वहीं अपहरणकर्ता भाई-बहन की जोड़ी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। अभनपुर के सरकारी अस्पताल में शनिवार को दिनदहाड़े घटी इस घटना को पुलिस ने चैलेंज के तौर पर लिया था। लिहाजा SSP आऱिफ शेख के नेतृत्व में राजधानी के शार्प इन्वेस्टिगेटिंग आफिसर को इस केस को सुलझाने का जिम्मा दिया गया था। नतीजा 24 घंटे से कम वक्त में सामने आया, जिसमें ना सिर्फ 1 दिन का नवजात अपहर्ता के चंगुल के छुड़ाया गया, बल्कि उसकी गिरफ्तारी भी हुई।

बच्चे के अपहरण की मास्टरमाइंड दुर्ग की पूजा सिन्हा थी, जबकि इस मामले में उसका भाई भी साथ था। दरअसल पूजा सिन्हा पहले से तलाकशुदा है, जिसकी दूसरी शादी पिछले साल ही हुई थी। पूजा शारीरिक कुछ परेशानी की वजह कभी मां नहीं बन सकती थी, लेकिन दूसरी शादी के दौरान पूजा ने ये बातें अपने पति और सास-ससुर से छुपायी। ऐसे में महिला को ये डर सताने लगा कि कहीं उसके मां नहीं बन पाने की पोल ना खुल जाये, लिहाजा उसने नवजात बच्चे के अपहरण की प्लानिंग शुरू कर दी।

प्लानिंग के तहत ही उसने पति से कहा कि वो गर्भवती है और अपने भाई के घर टिकरापारा में रहना चाह रही है। पति ने उसकी बात मान ली, पिछले कुछ दिनों से वो अस्पताल में घूम-घूमकर बच्चों के जन्म लेने की जानकारी ले रही थी। वो ज्यादातर सरकारी अस्पताल से बच्चा चोरी करने की प्लानिंग कर रही थी, क्योंकि उसे मालूम था कि सरकारी अस्पताल में सुरक्षा और जोखिम दोनों कम है।

इसी दौरान वो अभनपुर के सरकारी अस्पताल भी पहुंची थी। अभनपुर में खेम कुमारी नाम की महिला ने शनिवार की सुबह एक बच्चे को जन्म दिया था। अस्तपाल में कुछ देर रहना था, लिहाजा  खेम कुमारी का पति राधेश्याम धीवर अपनी सास को लाने गांव चला गया। इसी दौरान पूजा ने मौका देखकर अचानकर खेम कुमारी के पास पहुंची और बच्चे को डाक्टर को दिखाने की बात कहकर वहां से फरार हो गयी। दो घंटे बाद जब पति अस्पताल लौटा तो बेड पर ना तो बच्चा था और ना ही उसकी मां। खोजबीन के दौरान बदहवास हालत में खेम कुमारी मिली, जिसने पूरी घटना की जानकारी पति को दी।

इसके बाद अभनपुर थाने में अज्ञात महिला के विरूद्ध थाना अभनपुर में अपराध क्रमांक 241/20 धारा 363, 365 भादवि. का अपराध पंजीबद्ध किया गया। नवजात बच्ची की चोरी की जानकारी मिलते ही एसएसपी आरिफ शेख ने ASP  क्राइम पंकज चंद्रा, ASP ग्रामीण, CSP उरला अभिषेक महेश्वरी, नगर पुलिस अधीक्षक नवा रायपुर एवं थाना प्रभारी अभनपुर की टीम बनाकर बच्चे की सकुशल रिहाई कराने का जिम्मा दिया।

पुलिस ने अज्ञात महिला की पतासाजी के संबंध में मुखबीर लगाने के साथ – साथ घटना स्थल एवं आसपास लगे सी.सी.टी.व्ही. कैमरों के फुटेजों की भी पड़ताल की। इसी दौरान टीम को पूजा सिन्हा सुराग मिला, हिरासत में लेकर जब महिला से पूछताछ की गयी तो पहले तो उसने पुलिस को गुमराह करने की कोशिश की, लेकिन  कड़ाई से पूछताछ करने पर आरोपी पूजा सिन्हा ने गुनाह कबूल कर लिया। इसी दौरान पूजा ने इस मामले में भाई परस राम सिन्हा के साथ मिलकर नवजात शिशु के अपहरण करने की योजना बनायी।

Spread the love